Thursday , 28 October 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
बनारस/संतों की यात्रा पर पुलिस का लाठी चार्ज ,आंसू गैस व रब्बर बुलेट का इस्तेमाल ,पांच थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू

बनारस/संतों की यात्रा पर पुलिस का लाठी चार्ज ,आंसू गैस व रब्बर बुलेट का इस्तेमाल ,पांच थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू

IMG-20151005-WA0112

all photos by sanjay gupta

IMG-20151005-WA0153

घायल पुलिस कर्मी


वाराणसी /राजेश मिश्रा / गणेश प्रतिमा विसर्जन को लेकर साधू संतों पर किये गए बर्बर लाठी चार्ज के विरोध में आज संतों द्वारा पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार टाउन हाल चौराहे से निकाली  जा रही अन्याय प्रतिकार  यात्रा के गुदौलिया चौराहे पर पहुचते ही साधुओं और पुलिस के बीच हुई भिड़ंत ने देखते ही देखते उग्र रूप धारण कर लिया और बेकाबू भीड़ की ओर से जहाँ पुलिस पर पथराव किया गया वहीँ पुलिस ने लाठी चार्ज कर आंसू गैस के गोले छोडे और रब्बर बुलेट से फायरिंग कर भीड़ को नियंत्ग्रित करने का प्रयास किया लेकिन कामयाबी न मिलते देख जिला प्रशासन ने तत्काल प्रभाव से चौक,लक्खा ,भेलूपुर ,दशाश्नेश कोतवाली सहित पांच थाना क्षेत्रों में पूरी तरह से कर्फियु लगा दिया गया है /पुलिस द्वारा की गयी कार्यवाही से उत्तेजित संतों व यात्रा में शामिल श्रद्धालुओं  की भीड़ ने पुलिस के खिलाफ सीधा मोर्चा लेते हुए गुदौलिया चौराहे पर स्थित पुलिस बूथ को आग के हवाले कर दिया वहीँ पुलिस व पत्रकारों के कई वाहनों में आग लगा दी /मौके पर खुफिया सहित जिला प्रशासन के आला अधिकारी मोजूद हैं और भीड़ व पुलिस के बीच सीढ़ी भिड़ंत जारी  है /प्रधान मंत्री नरेद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में संतों पर एक माह में दूसरी बार हुए पुलिस के बर्बर लाठी चार्ज ने भाजपा के लिए खासी बेचैनी पैदा कर दी है क्यूंकि प्रतिकार यात्रा में कांग्रेस को छोड़ कर किसी भी राजनितिक दल ने  शामिल होने की पहल नहीं की थी जिस से कशी नगरी के लोगों में मोदी के प्रति ख़ासा रोष व्याप्त था इसी का इज़हार करने के लिए संतों ने आज अन्याय प्रतिकार यात्रा निकालने का अवाहन करते हुए बनारस बंद की घोषणा  की थी /संतों की प्रतिकार यात्रा पर एक सप्ताह पूर्व ही snn  ने  इस बात का खुलासा करते हुए दावा किया था की यात्रा के दौरान संतों और पुलिस के बीच भिड़ंत की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता /IMG-20151005-WA0119पिछले एक सप्ताह से अधिक समय से केन्द्रीय गुप्तचर एजेंसियां संतों की गतिविधियों पर निरंतर आंखे गडाए बैठीं थी बावजूद इस के आज देश भर के अलग अलग हिस्सों से आये लाखों की संख्या में साधू संतों और भक्त  जनों पर पुलिस का   कहर टूटा और सैंकड़ों की संख्या में लोग घायल हो गये /घायलों में एक दर्जन से अधिक पुलिस व पत्रकार भी शामिल हैं जिन में एक पुलिस कर्मी की हालत गंभीर है /संतों  के आह्वान पर देर रात से ही दूर दराज़ के जनपदों से यात्रा में शामिल होने के लिए भीड़ के आने का सिलसिला शुरू हो गया था और दोपहर चार बजे तक देखते ही देखते यह भीड़ सैलाब में तब्दील हो गयी जिसका शायद जिला प्रशासन को अंदाजा भी नहीं था /जिला प्रशासन द्वारा निर्धारित किये गए मार्ग से जब यात्रा की शुरुआत हुई तो संतों के हुजूम में काशी के वासी भी शामिल हो गए और  गुदौलिया चौराहे पर पहुचते पहुँचते भीड़ एक दम अनियंत्रित हो गयी जिसे पुलिस ने नियंत्रित करने का प्रयास करते हुए हल्का सा बल प्रयोग किया और यही  बल प्रयोग पुलिस के गले की फाँस  बन बैठा /पुलिस की लाठी के जवाब में भीड़ ने पुलिस को निशाना बना कर पथराव शुरू कर दिया और देखते ही देखते पुलिस बूथ सहित  अनेक गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया /पुलिस और संतों के बीच हुई भिड़ंत से काशी की तंग गलियों में एकदम से भगदड़ का माहौल कायम हो गया जो समाचार लिखे जाने तक कायम है कर्फियु ग्रस्त क्षेत्रों में पुलिस की गाड़ियां निरंतर गश्त करते हुए लोगों से अमन चैन कायम रखते हुए अपने घरों से बाहर न निकलने  की अपील कर रही हैं /संतों का यह भी दावा है की पुलिस ने उनके अनेक साथियों को हिरासत में लेकर किसी गुमनाम जगह पर रख छोड़ा है जिनके बारे में कुछ भी बताने से जिला प्रशासन इनकार कर रहा है / घटना के बाद से समूची काशी नगरी में अफवाहों का बाज़ार गर्म है लोग तरह तरह की अटकलें लगा कर पुलिस को कटघरे में खड़ा कर रहे हैं /IMG-20151005-WA0120

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*