Wednesday , 17 January 2018
Breaking News
यातायात माह का एडीजी ने किया शुभारंभ, 30 नवम्बर तक चलेगा अभियान

यातायात माह का एडीजी ने किया शुभारंभ, 30 नवम्बर तक चलेगा अभियान

Knp Photo no-6bकानपुर, 03 नवम्बर । यातायात नियमों के लिए लोगों को जागरुक करने के मकसद से यातायात माह का शुभांरभ किया गया। यातायात माह का शुभांरभ करते हुए शहर के आलाधिकारियों ने कहा कि लोगां में जागरुकता कम होने के चलते यातायात व्यवस्था बेहतर नहीं हो पाती है। इसके साथ ही कुछ लोग जानबूझ कर नियमों का पालन नहीं करते हुए अपनी जान तो जोखिम में डालते ही है इसके साथ अन्य लोगों को भी परेशानी का सामना करना पड़ता है।
ट्रैफिक पुलिस लाइन में शुक्रवार को यातायात माह की शुरुआत की गयी। इस अवसर पर एडीजी अविनाश चन्द्र के साथ ही जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह, केडीए उपाध्यक्ष के विजयेन्द्र पांडियन और एसएसपी अखिलेश कुमार मौजूद रहें। यातायाता माह की शुरुआत करते हुए अधिकारियों ने वहां पर मौजूद पुलिस कर्मियों को भी कई महत्वपूर्ण जानकारी देते हुए कहा कि उन्हें भी जनता के साथ बेहतर व्यवहार करते हुए जनता को यातायात के नियमों का पालन करने के लिए जागरुक करना चाहिए। एडीजी अविनाश चन्द्र का कहना था कि लोग तेज वाहन चलाना खुद की शान समझते है। लेकिन उन्हे ये पता नहीं होता है कि उनकी लापरवाही उन्हें तो मुसीबत में डालेगी इसके साथ सड़क पर चलने वालें लोग भी उनकी गलती का खामियाजा का सामना करते है। उनका  मानना था कि अगर एक बार  गलती करने वालें का ड्राइविंग लाइसेंस निरस्त हो जाए तो शायद उसे अपनी गलती का अहसास होगा और भविष्य में वह गलती को नही दोहरायेगा। अधिकारियों ने ये भी माना कि ट्रैफिक की व्यवस्था को बेहतर करने में होमगार्ड की अहम भूमिका रहती है। सिपाहियां की कमी के चलते यातायात व्यवस्था बाधित होने की बात भी उन्होंने स्वीकार की। इसके साथ लगातार वाहनों की बढ़ती संख्या भी यातायात के लिए एक समस्या है। इस दौरान एक रैली को एडीजी ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यातायात माह के दौरान शहर में कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>