Wednesday , 8 December 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध

दहशतगर्दी के झूठे इलज़ाम से बचाने के लिए मुसलमान एक हों-मारिया फज़ल

कानपुर।  आल इण्डिया मुस्लिम वोमेन  बोर्ड की एक अहम बैठक चमन गंज स्थित कार्यालय में सम्पन्न हुई। बैठक में  दहशतगर्दी के नाम पर मुस्लिम नौजवानो को बेगुनाह फसाने और उनकी रिहाई के नाम पर होने वाली गन्दी सियासत पर चर्चा की गयी। बैठक को सम्बोधित करते हुए उत्तर प्रदेश की पहली महिला क़ाज़ी मारिया फज़ल ने कहा कि जब जब इलेक्शन नज़दीक आते हैं गैर लोग साज़िश करके मुसलमानो को दहशतगर्दी के  नाम पर फंसाने की साज़िश करके अपने सियासी रास्ते बनाते हैं और मुसलमानो की कुछ कथित तंजीमें उनकी रिहाई के नाम पर बड़े बड़े कन्वेंशन करती हैं जो महज़ ज़बानी जमा खर्च है। महिला क़ाज़ी ने कहा कि मुसलमानो को दहशतगर्दी के इल्ज़ामात से बरी कराने के लिए केवल ज़ुबानी जुमले काम आने वाले नहीं। मारिया साहिबा ने कहा कि मुस्लिम क़ौम को झूठे इल्ज़ामात से बचाने के लिए ज़मीनी लड़ाई लड़नी होगी और मुसलमानो को सियासी तौर पर मुस्तहकम होना होगा। महिला क़ाज़ी ने कहा कि आरएसएस सूफी इज़्म और शरीयत के बीच खायी बनाने की  लगातार कोशिश में लगा हुआ है जिसे मिल्लते इस्लामिया को समझ कर एक प्लेटफार्म पर आना होगा।मारिया साहिबा ने कहा की आज भी हमारे हज़ारों बेक़सूर मुस्लिम नौजवान देश की जेलों में आतंकवाद के झूठे आरोपण में बंद हैं और उनकी रिहाई के लिए की जाने वाली कोशिशें नाकाफी हैं।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*