Saturday , 25 September 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
स्पाइसजेट होगी ईंधन आयात करने वाली पहली कंपनी

स्पाइसजेट होगी ईंधन आयात करने वाली पहली कंपनी

02-07-2013 नई दिल्ली| घरेलू विमानन कंपनियों को खुद विमान ईंधन आयात करने की अनुमति देने के एक साल बाद नागरिक उड्डयन मंत्री अजित सिंह ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि किफायती विमानन कंपनी स्पाइसजेट इसका लाभ उठाने वाली पहली कंपनी होगी। अजित सिंह ने कहा, “हमने उन्हें (विमानन कंपनियों को) अन्य कंपनियों के साथ साझेदारी कर खुद ईंधन आयात करने की अनुमति दी है। मुझे उम्मीद है कि स्पाइसजेट खुद ईंधन आयात करने वाली पहली कंपनी होगी। यह काम वह कब शुरू करगी, यह उसे तय करना है।”स्पाइसजेट खुद ईंधन आयात करने के लिए अनुमति हासिल करने वाली पहली कंपनी भी है। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि कंपनी को वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अंतर्गत विदेशी व्यापार महानिदेशालय द्वारा विदेशी आपूर्तिकर्ताओं से विमान ईंधन खुद आयात करने की अनुमति मिली है। पिछले वर्ष कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी नील मिल्स ने कहा था कि कंपनी ईंधन आयात करने के लिए प्रमुख तेल विपणन कंपनियों के साथ बात कर रही है। 22 फरवरी को तत्कालीन वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी की अध्यक्षता वाले एक मंत्रीमंडलीय समूह ने घरेलू विमानन कंपनियों को विमान ईंधन आयात करने की अनुमति दी थी। उस समय यह प्रतिबंधित आयात सूची में शामिल था और सिर्फ कुछ निश्चित सरकारी कंपनियां ही इसका आयात कर सकती थीं। माना जा रहा है कि इस कदम से विमानन कंपनियों के संचालन खर्च में 10 से 15 फीसदी तक की कमी आएगी। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) कहा था कि सस्ता विमान ईंधन की आपूर्ति के लिए वह विमानन कंपनियों, सरकारी कंपनियों और रिलायंस इंडस्ट्रीज के साथ संयुक्त उपक्रम बनाएगी। अभी देश के राज्यों द्वारा विमान ईंधन पर चार से 34 फीसदी तक बिक्री कर लगाए जाने के कारण देश में विमान ईंधन बैंकाक, सिंगापुर या दुबई के मुकाबले 50 से 60 फीसदी तक महंगा है।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*