Saturday , 21 May 2022
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
माँ कहती है बेटा गांव में मत घूमना कहीं रम्मन न आजाये -पढ़िए आतंक का पर्याय रम्मन की कहानी।

माँ कहती है बेटा गांव में मत घूमना कहीं रम्मन न आजाये -पढ़िए आतंक का पर्याय रम्मन की कहानी।

abu obaida 98380 33331 कानपुर। चौबेपुर थाना पुलिस ने एक ऐसे शख्स को गिरफ्तार किया है जो सूरत से तो साधू लगता है लेकिन सीरत से पूरा हैवान है।चौबेपुर थाना अंतर्गत किशुनपुर गाँव निवासी ७० वर्षीय कुख्यात अपराधी लक्ष्मी शुक्ला जिसे लोग अब रम्मन शर्मा के नाम से जानते हैं वह फिल्म शोले के मशहूर डाकू गब्बर सिंह की तरह जाना जाता है। पूरे किशुनपुर में माएं अपने बच्चों से कहती हैं कि गांव में देर तक मत घूमना कहीं रम्मन शर्मा से सामना न होजाये।
बतादें की कानपुर पुलिस मुख्यालय से मीलों दूर किशुनपुर गांव में रहकर अपने चार बेटों के साथ संगीन अपराधों को अंजाम देने वाले रम्मन सिंह को पुलिस ने काफी मशक़्क़त के बाद गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। रम्मन सिंह पर ह्त्या ह्त्या के प्रयास आर्म्स एक्ट व लूटपाट के एक दर्जन से अधिक मुक़दमे चौबेपुर थाने में दर्ज हैं। पुलिस लाइंस सभागार में एसपी ग्रामीण सुरेन्द्र नाथ तिवारी ने लक्ष्मी नारायण शुक्ला उर्फ़ राधारमण उर्फ़ रम्मन शर्मा को जब मीडिया के सामने पेश किया तो सब हैरत में पद गए। किसी को भी यक़ीन नहीं होरहा था कि साधू जैसी शक्ल के पीछे एक दरिंदा छिपा है जिस ने वर्ष २०१४ व मार्च २०१५  में दो दूधियों की धारदार हथियार से न्रशंस की थीं और पहचान मिटाने की गर्ज़ से चेहरे को ईंट पत्थरों से कुचल दिया था। एसपी सुरेन्द्र नाथ तिवारी ने बताया कि मूल रूप से उन्नाव जनपद का रहने वाला रम्मन शर्मा पूर्व में लक्ष्मी शुक्ल अहं करता था जो अब नाम बदल कर किशुनपुर गाँव में मामूली किसान के रूप में बस गया था।इसके चार लड़के भी कुख्यात अपराधी हैं और मामूली बात में ही लोगों पर गीली चला देते थे।आये दिन लोगों से मारपीट के बाद इसका पूरे गाँव में आतंक छा गया और लोग इसके नाम से ही कांपने लगे। सुरेन्द्र नाथ तिवारी ने बताया कि ३१ मार्च २०१५ को ग्राम रामपुर किशोर के रहने वाले दूध विक्रेता राकेश और १ फ़रवरी २०१४ को ग्राम डिंगरापुर निवासी रमेश चन्द्र की हत्याओं के आरोप व क्षेत्र में अन्य आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने के आरोप में रम्मन शर्मा को जेल भेज दिया गया है। इसके चारों बेटे पहले से ही विभिन्न मामलों में जेल में बंद हैं।
सूत्रों के अनुसार पुलिस की गिरफ्त में आया आतंक का पर्याय रम्मन शर्मा पुलिस वालों के लिए भी दहशत था।आम तौर पर एक दो पुलिस वाले दिन में भी किशुनपुर गांव मव जाने से कतराते थे। जब भी जाते तो समूह में जाते और यही कामना करते थे कि रम्मन शर्मा से  हो। इस अपराधी कीगिरफ्तारी से क्षेत्रीय लोग खुश हैं वहीँ एसएसपी शलभ माथुर ने कुख्यात अपराधी की गिरफ्तारी करने करने वाले थाना चौबेपुर के प्रभारी अमरपाल सिंह और टीम को पांच हज़ार रूपये का इनाम देने की घोषणा की है।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*