Saturday , 25 September 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
kanpur.मुर्गा मार्केट से सटी ज़मीन की नपाई होती देख सब्ज़ी विक्रेता की दिल का दौरा पड़ने से मौत।

kanpur.मुर्गा मार्केट से सटी ज़मीन की नपाई होती देख सब्ज़ी विक्रेता की दिल का दौरा पड़ने से मौत।

कानपुर।परेड स्थित ऐतिहासिक मुर्गा मार्केट की ४७०० वर्ग गज़ ज़मीन से सटी सब्ज़ी व फल मार्केट में केडीए द्वारा नपाई कराई जाने से आहत एक बुज़ुर्ग सब्ज़ी विक्रेता मोहम्मद  रफीक (६५) की दिल का दौरा पड़ने  से मौत हो गयी। बतादें कि केडीए ने हाल ही में सौ साल पुरानी मुर्गा मार्केट के ७९ दुकानदारों को हटा कर मछली बाज़ार खलवा में अस्थायी दुकानो में विस्थापित किया था जिसके बाद वहाँ समतलीकरण का काम दिनरात चल रहा है। फिलहाल सैंतालिस सौ गज़ पर केडीए मल्टीलेवल पार्किंग का निर्माण कराने की तयारी में लगा है उसके बाद बची हुई ज़मीन की बारी आएगी और बचे हुए दुकानदारों को भी वहाँ से हटाने का काम किया जाएगा। इसी कड़ी में आज दोपहर केडीए के कर्मचारी फीते लेकर बची हुई ज़मीन की नापजोख करने लगे और कई जगह पीले पेंट से निशान  लगा कर मार्किंग करदी।यह सब कार्रवाई होता देख मृतक रफीक ने नपाई कर रहे लोगों से पूछा तो उन्हे बताया गया कि  इस जगह की नपाई के बाद इसे भी खाली कराया जाएगा इतना सुनते ही रफीक की हालत बिगड़ गयी और वह अपनी चारपाई पर गिर पड़े।मरहूम रफीक की माँ ने केडीए कर्मचारियों पर आरोप लगते हुए कहा कि इन लोगों ने उनके बेटे की जान लेली। रफीक की मौत की खबर आसपास जंगल की आग की तरह फैली औए देखते ही देखते वहाँ सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा होगयी।रफीक की मौत की सूचना पाकर लगभग एक घंटे बाद एसीएम पहुंचे और मामले की जानकारी ली। मौके की नज़ाकत को देखते हुए कोतवाली कर्नल गंज व रायपुरवा सर्किल आफिसर भारी पुलिस बल के साथ पहुंचे।इसी बीच कुछ लोगों ने रफीक के शव को सड़क पर रख कर जाम लगाने की बात कही तो वहाँ मौजूद लोगों ने समझाबुझा कर उन्हें शांत किया। खबर लिखेजाने तक जिला प्रशासन की ओर  से कोई प्रतिक्रिया नही मिल सकी थी। स्थिति नियंत्रण में है।वहीँ दिल का दौरा पड़ने से मरे रफीक की बूढी माँ ने रट हुए कहा कि उसकी ३ जवान लडकियां और एक बेटा है सभी शादी के लायक हैं और रफीक ही घर चलाने का एकमात्र ज़रिया थे।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*