Tuesday , 21 September 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
विलायत की असली  पहचान सुन्नत का अनुसरण है:- मौलाना उसामा

विलायत की असली पहचान सुन्नत का अनुसरण है:- मौलाना उसामा

कानपुर। हुजूर रहमतुल लिलआलमीन और अन्तिम नबी हज़रत मुहम्मद अरबी स.अ.व. पर नुबुव्वत का सिलसिला समाप्त और मुकम्मल हो गया। अब आप स0अ0व0 के बाद क़यामत तक कोई नया नबी नहीं आ सकता। इसी के साथ अब कोई सहाबी भी नहीं बन सकता क्योंकि सहाबी उसे कहते हैं जिसने अन्तिम नबी स0अ0व0 के दर्शन किया हो या आप स.अ.व. के संगत में रहा हो, जब नबी नहीं तो सहाबी नहीं परन्तु विलायत का सिलसिला कयामत तक बाक़ी रहेगा । देश के प्रमुख धर्मगुरू और कानपुर के उत्तराधिकारी व कार्यवाहक काज़ी ए शहर मौलाना मुहम्मद मतीनुल हक़ उसामा क़ासमी ने जामा मस्जिद अशरफाबाद में आयोजित मशाईख ए चिश्त सम्मेलन में बोलते हुए इन विचारों को व्यक्त किया। मौलाना क़ासमी ने कहा कि औलिया अल्लाह चारों मश्हूर सिलसिले हज़रात सहाबा किराम से होते हुए रसूल अल्लाह स.अ.व. तक पहुंचते हैं। मौलाना ने कहा कि अकाबिर देवबंद चारों सिलसिलों से संबन्ध रखते हैं। जिनमें बड़ी संख्या का सम्बन्ध सिलसिला ए चिश्तिया से है मौलाना उसामा ने सिलसिला ए चिश्तिया के महान बुजुर्ग ख्वाजा अजमेरी हजरत मोइनुद्दीन अजमेरी चिश्ती रहमतुल्लाहि अलैह की सेवाओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि देश के मौजूदा हालात में हजरत ख्वाजा साहब के करुणा, ईमानी शक्ति,  सुन्नत के अनुसरण और अपने तकवा और सेवा भाव से भरपूर जीवन का अनुसरण कर हम बहुत कुछ हालात पर काबू पा सकते हैं। मौलाना ने ज़ोर दे कर कहा कि सुन्नत का अनुसरण विलायत की असली पहचान है। नबी अकरम हजरत मुहम्मद अरबी स.अ.व. की पवित्र जीवनी व सुन्नत को अपनाए बिना कोई वली अल्लाह नहीं हो सकता। हज़रात औलिया अल्लाह का पूरा जीवन मुहब्बत ए पैगम्बर मुहम्मद स.अ.व. व इत्तेबा ए सुन्नत से तहरीर है। हम भी अगर सम्मान, जन्नत और अल्लाह की रज़ा चाहिए तो हम इन्हीं अैलिया अल्लाह की सुन्नतों वाले जीवन के अनुसार अपने को ढाल लें और हर तरह के गैर शरई मामलों से अपने को बचा लें तो इन्शा अल्लाह दुनिया और आखिरत की सफलता नसीब हो जाएगी।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*