Tuesday , 21 September 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
कानपुर।  १५ रमज़ान को आसमानी धमाके की अफवाह से लोगों में दहशत।मुस्लिम धर्म गुरुओं ने किया खंडन

कानपुर। १५ रमज़ान को आसमानी धमाके की अफवाह से लोगों में दहशत।मुस्लिम धर्म गुरुओं ने किया खंडन

IMG_9031okabu obaida .कानपुर में इस साल १५ रमज़ान को आसमानी धमाके की अफवाह चर्चा का विषय बानी हुई है ,हर कोई एक दुसरे से पूछ रहा है की इस बात में कितनी सच्चाई है?आम आदमी के पास इसका कोई जवाब नहीं बस लोग किसी अनहोनी से डरे हुए कह रहे हैं की हो सकता है नहीं भी हो सकता।आप को बता दें की कुछ रोज़ पहले एक परचा बांटा गया जिसमे दावा किया गया था की इस साल रमज़ान की पंद्रहवीं तारीख को पड़ने वाले जुमे को फजिर (सुबह )की नमाज़ के बाद एक आसमानी चिंघाड़ सुनाई दे गी। इस चिंघाड़ के बाद लोग अपने घरों में चले जाएँ और खिड़की दरवाज़े और रोशनदान बंद कर लें यहाँ तक की अपने कानों में रूई ठूंस लें ताकि उस तेज़ धमाके की आवाज़ से आप को कोई नुकसान न  हो। पर्चे में धमाके से बचने के लिए तरीका भी बताया गया है जिसमे कहा गया है की आवाज़ सुनते ही अल्लाह के सामने  सजदे में गिर जाओ और ज़ोर ज़ोर से सुभानुल क़ुद्दूस पढ़ते रहो।पर्चे में दावा किया गया है की जो ऐसा नहीं करे गा हलाक हो जाये गा।पेम्फ्लेट में बाक़ायदा कुछ हदीसों (हज़रत मोहम्मद साहब के उपदेश व् कथन )का ज़िक्र किया गया है।जिन्हे पढ़ कर भोले भाले लोग सच समझ बैठे हैं। इस अफवाह का परचा जब कानपुर के उलेमा (मुस्लिम धर्म गुरुओं)तक पंहुचा तो उन्हों ने उसे कोरी बकवास क़रार दिया और जिन हदीसों का हवाला देकर अफवाह उड़ाई गयी उन्हें ग़लत क़रार दिया। इस्लामिक इल्मी एकेडमी राजबी रोड कानपुर की ओर  से जारी ब्यान में कहा गया है की जिन किताबों में दर्ज हदीसों का हवाला दिया गया है उसे मुलिम उलेमा मुस्तनद नहीं मानते यहां तक की उन किताबों का ज़िक्र करना और उनके हवाले से दलीलें देना नाजायज़  है। इस्लामिक इल्मी एकेडमी कानपुर की ओर  से मौलाना मतीनुल हक़ ओसामा क़ासमी ,मौलाना खलील अहमद मज़ाहिरी ,मौलाना इनामुल्लाह क़ासमी मुफ़्ती उस्मान क़ासमी आदि ने संयुक्त रूप से ब्यान जारी कर के कहा है की मुसलमान इस अफवाह पर ध्यान न दें ये साज़िश है लोगों को अल्लाह की ज़ात पर यक़ीन  रखना हो गा।अल्लाह बड़ा रहीम और करीम है ,और अगले पल वो क्या करने वाला है इसका इल्म सिर्फ अल्लाह को ही है कोई इंसान ऐसी बातें लोगों के बीच करता है तो समझो वो शैतान है।आप को याद दिला  दें की जनवरी २०१२ में भी ऐसी अफवाह उडी थी की आज रात जो सोया उसकी आँख पत्थर की हो जाये गी इस झूठे सन्देश ने पूरे उत्तर भारत को हिला कर रख दिया था और हर शहर में लोग लाखों की संख्या में सड़कों पर निकल आये थे। पुलिस के लिए लॉ एंड आर्डर की समस्या खड़ी  हो गई थी प्रशासन की लाख कोशिशों के बाद भी भीड़ रात भर सड़कों पर रही और सुबह होने पर ही घर गई।मुस्लिम धर्मगुरुओं के स्पष्टीकरण के बाद कुछ हद तक लोगों ने राहत महसूस की है ,मगर १५ रमज़ान को क्या सूरत बनती है देखना दिलचस्प हो गा

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*