Monday , 6 December 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
kanpur. दलित संगठन ने किया शहर क़ाज़ी हाफ़िज़ अब्दुल क़ुद्दूस हादी का सम्मान

kanpur. दलित संगठन ने किया शहर क़ाज़ी हाफ़िज़ अब्दुल क़ुद्दूस हादी का सम्मान

abu obaida 98380 33331 कानपुर।मदरसा इशाअतुलउलूम कुलीबाज़ार के मोहतमिम और हाल ही में शहर क़ाज़ी बनाये गए हाफ़िज़ कारी अब्दुल क़ुद्दूस हादी को आज मेकराबाेर्ट गंज स्थित भारतीय दलित पैंथर कार्यालय में सम्मानित किया गया।दलित पैंथर की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में सभी धर्मों के लोग जमा हुए और क़ाज़ी शहर अब्दुल क़ुद्दूस साहब को फूलों से लाद दिया। अपने इस सम्मान से भावुक हुए हाफ़िज़ क़ुद्दूस ने कहा कि ऐसा ही प्यार अगर सब लोग एक दूसरे को दें तो भारत में हर तरफ खुशियां ही खुशियाँ होंगी किसी का घर नहीं जलेगा किसी की आबरू नहीं लुटे गी लोग बेख़ौफ़ होकर जियें गे कारोबार और उद्योग चमक उठें गे। उन्हों ने कहा कि कानपुर की अवाम ने उन्हें बड़ी ज़िमेदारी दी है जिसे निभाने के लिए वह दिन रात एक कर दें गे। क़ाज़ी अब्दुल क़ुद्दूस हादी ने आगे कहा कि  क़ौम के बच्चों को दीनी तालीम के साथ सामाजिक रूप से बेदार करना और क़ौम की खिदमत करना ही उनकी ज़िन्दगी का मक़सद है। अवधनामा  संवाददाता अबु उबैदा ने उनके उस बयान की याद दिलाई जिसमे उन्हों ने शहर क़ाज़ी बनने के बाद अपना स्वागत कराने से इंकार किया था और कहा था कि वह स्वागत समारोहों के बजाये अवाम के बीच जाकर उनकी समस्याएँ सुने गे और उनके हल निकालने की कोशिश करें गे लेकिन आज सम्मान समारोह में पहुँच गए इस पर क़ाज़ी साहब ने बड़ी सादगी से कहा कि अगर यह एहतिमाम कोई मुस्लिम संगठन करता तो मै  अपने बयान पर क़ायम रहता लेकिन भारतीय दलित पैंथर के इस प्रस्ताव को सिर्फ इसलिए स्वीकार कर लिया कि  उनकी दिलाज़ारी न हो इसी बहाने हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई और बौद्ध एक मंच पर जमा हुए जिस से आज के नफरत भरे माहौल में भाई चारे का खूबसूरत सन्देश दुनिया के सामने गया। हाफिज क़ुद्दूस ने कहा कि इंसानियत का पैग़ाम देने के लिए वह किसी भी मंच और सभा में जाने के लिए तैयार हैं उनकी कोशिश है कि कानपुर को अमनो अमान के गेहवारे के रूप में जाना जाए। इस मौके पर भारतीय दलित पैंथर के धनि राव बौद्ध ने कहा कि अभी तक  क़ाज़ी साहेबान का स्वागत मुसलमान भाई ही करते थे लेकिन यह पहला मौक़ा है जब किसी दलित संगठन के बैनर तले दलितों सिखों बौद्धों और मुसलमानो ने हाफिज क़ुद्दूस का स्वागत किया। इस अवसर पर मनोज सिंह पवन गुप्ता सरदार नीतू सिंह प्रेम जी बौद्ध सरदार अमरजीत सिंह पम्मी पास्टरसरजील दयाल राजा राम निषाद उमेश पैंथर आदि मौजूद

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*