Sunday , 24 October 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
जल संकट से जूझ रही महिलाओं ने जलकल कर्मियों को चूड़ियाँ पहनाईं

जल संकट से जूझ रही महिलाओं ने जलकल कर्मियों को चूड़ियाँ पहनाईं

कानपुर। शहर के चकेरी इलाके में पानी के संकट से परेशान लोगों का गुस्सा शुक्रवार फ़ूट पड़ा। क्षेत्रीय लोगों ने शिवकटरा स्थित क्षेत्रीय जल निगम  कार्यालय का घेराव किया और वहां मौजूद ऑपरेटर को महिलाओं ने चूड़ियां पहनाकर माथे पर बिंदी लगाई और चुनरी कर  उढ़ा पानी की मांग की। कानपुर के चकेरी स्थित शिवकटरा इलाके में पिछले एक महीने से लोग पानी की किल्लत से जूझ रहे हंै। आज क्षेत्र के लोगों का गुस्सा शिवकटरा स्थित स्थानीय जलकल के दफ्तर में फ़ूट पड़ा। स्थानीय पार्षद मनोज यादव की अगुवाई में क्षेत्रीय लोगों के साथ भारी सख्यां में महिलाएं जल निगम के दफ्तर पहुंची और घेराव कर जमकर नारेबाजी की। नारेबाजी करते हुए पानी की सप्लाई किए जाने की मांग करते हुए वहां मौजूद आॅपरेटर को पकड़ लिया और हाथांे में महिलाओ ने चूड़ियां पहना दी। यहीं नहीं आक्रोशित जनता ने माथे पर बिंदी लगाई और चुन्नी उड़ा डाली। महिलाओं के अनुसार क्षेत्र में पिछले कई दिनों से पानी नहीं आ रहा है। शिकायत करने पर भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। पेयजल संकट को देखते हुए प्यासी जनता अफसरों की इस लापरवाही को बर्दाश्त नहीं करेंगी और सबक सिखानों को यह अनोखा तरीका निकाला। अफसरों द्वारा सुनवाई को न आने पर आॅपरेटर को चूड़ियां पहनाई। मामले की जानकारी पर एसओ चकेरी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और गुस्साई भीड़ को शांत कराया। पुलिस के आधा घंटे समझाने के बाद जनता का गुस्सा शांत हुआ। पार्षद ने 24 घंटे का अल्टीमेटम देते हुए कहा कि है अगर पानी आपूर्ति बहाल नहीं हुई तो अफसरों को कार्यालय में बैठने नहीं दिया जाएगा।इस दौरान वहां मौजूद अन्य विभागीय कर्मी जनता का गुस्सा देख भाग निकले। घेराव के समय तीन-चार दर्जन से अधिक क्षेत्रीय लोग उपस्थित थे।
पानी के तरस रही दक्षिणवासी शहर के दक्षिण स्थित दबौली इलाके में रहने वाले लोगों को तीन दिन से पानी की सप्लाई न होने से पेयजल संकट से जूझ रहे हैं। क्षेत्र में लगा एक मात्र हैंडपम्प खराब होने से स्थानीय लोगों को पानी के लिए भटकना पड़ रहा है। कमोबेस यह हाल लगभग पूरे शहर का है, लेकिन दक्षिण का हाल पेयजल के मामले में बेहाल है। दबौली इलाके में हैंडपम्प से लेकर पेयजल की सप्लाई न होने से क्षेत्रीय नागरिकों ने पानी के लिए भटकना पड़ रहा है। प्यास बुझाने को दूसरे क्षेत्रों से पीने का पानी लाना पड़ रहा है। इस समस्या को लेकर पप्पू मिश्रा का कहना है कि पानी की सप्लाई और खराब हैंडपम्प को ठीक कराने की शिकायत कई बार अफसरों को की गई, लेकिन समाधान नहीं कराया गया। पानी की सप्लाई जल्द सुचारू रूप से नहीं की गई तो गुस्साईं जनता सड़कों पर उतर प्रदर्शन को बाध्य होगी।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*