Friday , 10 April 2020
Breaking News
नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ गरजी मजलिस

नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ गरजी मजलिस

कानपुर।नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ आल इंडिया मजलिसे इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) ने आज दोपहर जुमे की नमाज़ के बाद उत्तर प्रदेश मजलिस के सदर शौकत अली के आह्वान पर पूरे उत्तर प्रदेश में ज़बरदस्त एहतिजाज किया।सोशल मीडिया के ज़रिये बुलाए गए इस शान्तिपूर्ण प्रदर्शन का कानपुर में भी ज़बरदस्त असर हुआ और नमाज़ के बाद हज़ारों की संख्या में लोग मजलिस के झंडों और बिल के खिलाफ लिखे नारों की तख्ती के साथ हलीम कालेज चौराहे पर जमा हो गए।IMG-20191213-WA0004भारी संख्या में जुटे लोगों को मजलिस के नगर अध्यक्ष हाजी युसूफ मंसूरी ने सम्बोधित करते हुए कहा कि उनकी पार्टी इस काले बिल के खिलाफ है और हुकूमते हिन्द से इसे वापस लेने की अपील करती है। मंसूरी ने कहा कि नागरिकता संशोधन बिल और एनआरसी जैसे देश विरोधी विधेयक की मुखालफत में कोई भी क़ुर्बानी देने को तैयार हैं,सरकार चाहे गिरफ्तार करे डिटेंशन सेंटर में बंद करे या गोली मारे वह और पार्टी इसका पुरज़ोर विरोध करेंगे।किसी भी क़ीमत पर लाइनों में लग कर कोई दस्तावेज़ जमा नहीं करेंगे।कहा कि लोकतंत्र में ऐसे तानाशाही फरमानो की कोई जगह नहीं जिसमे देश के गरीब नागरिक अपना काम धंधा छोड़ कर सालों लाइन में लग कर अपनी नागरिकता साबित करता रहे और पहले से  चौपट अर्थव्यवस्था में भूखा मरने की कगार पर पहुँच जाए।इस बाबत मजलिस की और से मजिस्ट्रेट के माध्यम से देश के राष्ट्रपति को ज्ञापन भी सौंपा गया जिसमे उपरोक्त मांगे उठाई गयीं।IMG-20191213-WA0001 

बंद रहा मुस्लिम इलाक़ा

जल्दबाज़ी में किये गए इस प्रदर्शन को क्षेत्र का पूरा सपोर्ट मिला और सवेरे से ही ज़्यादातर मुस्लिम इलाक़ों में दुकाने बंद रखी गयीं हालांके पार्टी की तरफ से बंद की कोई अपील नहीं की गयी थी। शाम चार बजे दादा मिया चौराहे और कुछ अन्य जगहों पर लोगों ने भीड़ की शक्ल में आकर दुकानों को ज़बरदस्ती बंद कराने की कोशिश की जिसकी हाजी युसूफ मंसूरी ने मज़म्मत की है। 

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>