Tuesday , 19 October 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
युवक की मौत पर गुसाई भीड़ ने सड़क जामकर बस में लगाई आग

युवक की मौत पर गुसाई भीड़ ने सड़क जामकर बस में लगाई आग

01कानपुर। अनियंत्रित वाहन चालकों के खिलाफ  ट्रैफिक पुलिस ने सोमवार को गोविन्दनगर के दादानगर चैराहे पर अभियान चलाया और निजी बस समेत कई बड़े वाहनों के चालान भी काट दोेबारा ऐसे न करने की सख्त हिदायद भी दी थी लेकिन ट्रैफिक पुलिस द्वारा चलाया गया  अभियान उस समय बेकार साबित हुआ जब मंगलवार एक प्राइवेट बस ने दादानगर चैराहे पर ड्यूटी के लिए साइकिल से जा रहे युवक को रौंद दिया। हादसे के बाद चालक मौके से बस छोड़कर भाग निकला। घटना के बाद आक्रोशित भीड़   ने बस को आग के हवाले कर दिया मुआवजे की मांग करने करते हुए सड़क जाम करदी । सूचना पर पंहुची पुलिस ने परिजनों को आश्वासन देकर शांत कराने की कोशिश की । सचेंडी थाना क्षेत्र का रहने वाला बृजेश सविता (28) रोजना की तरह दादा नगर स्थित इंडिगो शू कम्पोंनेंट फैक्ट्री में ड्यूटी के लिए सुबह आठ बजे घर से निकला। गोविन्दनगर इलाके में पंहुचा ही था कि सामने से तेज रफ्तार से प्रिया ट्रेवेल्स की बस ने उसे टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि युवक सड़क से 15 फिट दूर जा गिरा और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। हादसा देख इलाकाई लोगों ने बस चालक को पकड़ने की कोशिश की, लेकिन चालक बस को सडक पर ही खड़ा करके भाग निकला। इधर घटना की जानकारी पर मृतक के साथ काम करने वाले कर्मचारी भी आ गए। साथी की मौत से गुस्साए कर्मचारियों व इलाकाईयों ने बस में तोड़फोड़ शुरू करने के बाद आग लगा दी। बवाल की जानकारी होने पर गोविन्दनगर सीओ बाबूपुरवा सीओ समेत कई थानों की फोर्स समेत दमकल की गाड़ी पहंुचीी। भारी पुलिस को देखकर परिवार ने मृतक का शव लेकर सड़क पर आ गये और मुवाआजे की बात को लेकर हंगामा शुरु कर दिया। दमकल कर्मियों ने धू-धू कर जली रही बस में लगी आग को बुझाया, लेकिन तब तक बस खाक हो चुकी थी। इधर घटना पर पहंुचे जिला व पुलिस प्रशासन के अधिकारी आक्रोशितों को शांत कराने की कोशिश में जुटे हुए है।
अब कैसे चलेगा परिवार
सड़क हादसे में बृजेश सविता की मौत की खबर जैसे लगी तो किसान परिवार में कोहराम मच गया। वह परिवार व अन्य ग्रामीणों के साथ घटनास्थल पर पहंुचे और शव को लेकर हंगामा शुरु कर दिया। रिश्तेदार ने बताया कि पिता किसान है और खेती किसानी से घर का खर्च न चलने पर मृतक दादानगर की एक फैक्ट्री में काम करता था। अब उसके मरने के बाद इन किसान परिवार का सहारा कौन बनेगा और कैसा चलेगा इनके घर का खर्च
किसी की भी नहीं सुनते यह प्राइवेट बस चालक
आक्रोशितों लोगों के साथ मौजूद राकेश ने बताया कि ट्रैफिक पुलिस की सांठ-गाठ से यह चालक सड़क पर मौत बांट रहे है। गोविन्दनगर, नौबस्ता बड़ा चैराहा, माल रोड, घंटाघर, बर्रा, गुजैनी, रामादेवी में कई बार हादसे हो चुके है। लेकिन जिला व पुलिस प्रशासन हाथ पर हाथ धरकर बैठा है। उनका कहना है कि प्राइवेट बसे जो भीड़भाड़ इलाको में चलती है उन्हें यह से हटाकर शहर के बाहरी इलाके में भेजे। 01a
पांच घंटे बाद भी पुलिस नहीं खुला सकी जाम
गोविन्दनगर में एक निजी बस द्वारा साइकिल सवार को रौंदने के बाद आक्रोशित राहगीरों ने जहां बस को आग के हवाले कर दिया तो वही परिवार व ग्रामीणों ने शव को सड़क पर रखकर जमकर हंगामा शुरु कर दिया। बवाल की जानकारी पर पहंुचे पुलिस अधिकारियों व सर्किल थाने की पुलिस ने कार्रवाई का आश्वासन देकर आक्रोशितों को शांत कराया। लेकिन काफी मेहनत के बाद पुलिस पांच घंटो के बाद भी जाम नहीं खुला सकी और सैकड़ो की संख्या महिलाएं बुजर्ग, बच्चों समेत लोग सड़क पर जाम लगा न्याय की गुहार लगा रहे है।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*