Monday , 6 December 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
२१ मई को सैयद बाबा की मज़ार के बाहर हुई हत्या में दो गिरफ्तार। पिता की हत्या का बदला था।

२१ मई को सैयद बाबा की मज़ार के बाहर हुई हत्या में दो गिरफ्तार। पिता की हत्या का बदला था।

IMG_9973okkkabu obaida 9838033331 .२१ मई को मकराबर्ट गंज स्थित लोकनिर्माण कालोनी परिसर में सैयद बाबा की मज़ार पर दिन दहाड़े हुए निज़ाम हत्या काण्ड में पुलिस ने नामज़द चार आरोपियों में दो को मय असलहे गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार अभियुक्तों के पास से हत्या में इस्तेमाल ३१५ बोर के २ कट्टे और कई ज़िंदा  कारतूस बरामद हुए हैं।

पुलिस लाइन में एस एस पी शलभ माथुर ने बताया की २१ मई को दिन दहाड़े सैयद बाबा की मज़ार पर ज़ियारत करने आये बाबू पुरवा कालोनी निवासी निज़ाम उर्फ़ गोगा (४५)की गोलियों से भून कर कुछ लोगों ने हत्या कर दी थी। हत्या के बाद मृतक के चचेरे भाई शहंशाह आलम ने ६ लोगों के विरुद्ध हत्या की रिपोर्ट लिखाई थी जिसमे ४ लोग नामज़द थे। घटना के बाद पुलिस ने नामज़द आरोपियों चमनगंज निवासी सिराज  और फरीद के अलावा अन्य आरोपियों के घर दबिश दी मगर वो फरार थे।एस एस पी शलभ माथुर द्वारा गठित जांच टीम ने अथक प्रयास के बाद आज हत्या में नामज़द सिराज पुत्र रशीद और फरीद पुत्र रशीद को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने क़त्ल में इस्तेमाल दो तमंचे भी बरामद किये हैं। हत्यारोपियों ने बताया की निज़ाम ने आज से ३० साल पहले उनके पिता रशीद की निर्मम हत्या की थी और वो इस घटना के बाद जेल गया था अपने पिता की हत्या का बदला लेने के लिए काफी सालों से योजना बना रहे थे जिसे २१ मई की शाम को अंजाम दिया।इन दो आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस अन्य नामज़द लोगों की तलाश कर रही है।एस एस पी ने बताया की घटना को अंजाम देने के बाद हत्यारे मौके पर एक बाइक छोड़ कर फरार हुए थे जिसके नंबर के आधार पर जाँच में मदद मिली और क़त्ल के मुलजिमों तक पहुचने में आसानी हुई।उन्हों ने कहा की जल्द ही बाक़ी मुल्ज़िम सलाखों के पीछे हों गे।पुलिस के हथ्थे चढ़े सिराज और फरीद दोनों सगे भाई हैं ,उन्हों ने बताया की जब वे दोनों छोटे थे तब निज़ाम ने उनके पिता की हत्या की थी और जेल से छूटने पर आये दिन उहने चिढ़ाता रहता था जिस से उनके अंदर प्रतिशोध की ज्वाला धधक रही थी ,अपने पिता के क़ातिल को मारने पर उन्हें कोई दुःख नहीं।IMG-20150521-WA0039ggg                                                                                                                                nizam

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*