Saturday , 25 September 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
एनआईटी से घर पहुंचा छात्र -कहा ‘भारत माता की जय‘ बोलने पर  मिली थी लाठियां।

एनआईटी से घर पहुंचा छात्र -कहा ‘भारत माता की जय‘ बोलने पर मिली थी लाठियां।

कानपुर। । श्रीनगर के एनआईटी की हालत बहुत खराब है। बाहर के छात्रों के साथ सौतेला व्यवहार तो किया ही जाता है कैम्पस में देश विरोधी लोग भी अपनी जड़े जमाए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चाहिए कि वह खुद मानीटरिंग करें और कड़े फैसले लें। श्रीनगर हो या फिर एनआईटी कैम्पस के हालात बिल्कुल भी ठीक नहीं है। यह कहना है कि भारत माता की जय  बोलने पर श्रीनगर में पुलिस की बर्बरता का शिकार हुए कानपुर निवासी एनआईटी छात्र हर्ष शुक्ला का। छात्र  कानपुर स्थित बाबूपुरवा इलाके में बने अपने घर पहुंचा तो उनसे मिलने वालों का तांता लगा रहा। पांव छूते ही मां की आंखे डबडबा गईं।
कानपुर के बाबूपुरवा कालोनी निवासी प्रमोद कुमार शुक्ला का बेटा हर्ष शुक्ला श्रीनगर स्थित एनआईटी से मैकेनिकल प्रथम वर्ष का छात्र है। छात्र के मुताबिक 31 मार्च को वेस्टंडीज की जीत के बाद छात्रों के एक गुट ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हुए आतिशबाजी की। जवाब में कैम्पस के अन्य छात्र भी बाहर निकल आए और ‘भारत माता की जयकार‘ करने लगे। इन छात्रों ने रात में ही तिरंगा लहरा दिया। अगले दिन एनआईटी कैम्पस का माहौल काफी गर्म हो गया। तनाव के बीच जब मीडिया पहुंची तो उसे बाहर रोक पुलिस ने तिरंगा लहराकर भारत माता की जय बोलने वाले छात्रों पर जमकर लाठियां बरसाईं। इतना ही नहीं इन छात्रों पर आंसू गैस के गोले तक दागे गए। पुलिस की बर्बरता का शिकार हर्ष भी बने। पुलिस ने हर्ष को लाठियों से जमकर पीटा। जख्मी हर्ष को अस्पताल तक ले जाना पड़ा था। बेटे पर बर्बरता की तस्वीर टीवी चैनलों में देख परिजन भी परेशान हो गए थे। माता-पिता व अन्य परिवार के सदस्य हर्ष को बराबर फोन कर हौसला अफजाई करते रहे। बीती शाम को कानपुर पहुंचे हर्ष ने कहा कि श्रीनगर एनआइटी के हालात ठीक नहीं है। दूसरे राज्यों के छात्रों के साथ बेहद सौतेला व्यवहार किया जाता है। पढ़ाई का तो माहौल ही नहीं बचा है। हर्ष ने कहा कि पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाने वाले देशद्रोही हैं। लाठीचार्ज के बाद पहुंचे एमएचआरडी के दो सदस्यों वाले दल से सभी छात्रों ने एनआईटी को श्रीनगर से कहीं अन्यत्र शिफ्ट करने की मांग की थी, जिस पर सदस्यों ने कहा कि वह पूरे मामले को उच्चस्तर पर रखेंगे। हर्ष का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एनआईटी प्रकरण पर खुद मानीटरिंग कर कड़े फैसले लेने पड़ेंगे तभी माहौल में सुधार आएगा। प्रधानमंत्री यदि सख्त रवैया अख्तियार करते हैं तो देशद्रोहियों के हौसले पस्त होंगे और एनआईटी ही नहीं पूरे श्रीनगर का माहौल बदल जाएगा। देश में रहकर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाना, हम लोगों को बर्दाश्त नहीं हुआ। यही वजह रही कि रात में ही सभी छात्रों ने तिरंगा लहराकर भारत माता की जयकार करने लगे।

 

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*