Saturday , 21 May 2022
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
चुनावी चक्कर में घर बसा पार्षद का

चुनावी चक्कर में घर बसा पार्षद का

कानपुर। निकाय के प्रथम चरण में होने वाले 22 नवम्बर के मतदान  को लेकर कानपुर नगर निगम में इन दिनों नामांकन की प्रक्रिया में तेजी आ गई। छठवें दिन दूल्हे के भेष में नामांकन को पत्नी के साथ पहुंचे निवर्तमान पार्षद को देखकर नगर निगम में चर्चा का केन्द्र बन गया। लोगों के मुंह अनायास निकल रहा था कि चुनाव में तो जीत हार बनी ही रहती है पर सीट बदलने से राजकिशोर भैया का घर तो बस गया। निवर्तमान पार्षद ने एक दिन पहले ही शादी की है।परिसीमन के चलते इस बार नवाबगंज सीट आरक्षित हो गई और यहां से महिला ही प्रत्याश्ी हो सकती है। सीट बदलने के चलते निवर्तमान पार्षद राजकिशोर यादव की राजनीति पर विराम लगता दिखाई देने लगा। यही नहीं इसका फायदा उठाने के लिए विरोधी भी जोर शोर से प्रचार में जुट गये। लेकिन राजनीति में सब कुछ संभव है इसीलिए निवर्तमान पार्षद ने आनन-फानन में गुरूवार को नेहा यादव के साथ शादी कर ली और दूसरे दिन यानी शुक्रवार को नगर निगम नामांकन कराने पहुंच गये। यह देख उनके चाहने वाले के साथ दूसरे लोग भी यह कहने लगे कि आखिर परिसीमन ने राजकिशोर भैया का घर तो बसा दिया। नामांकन के दौरान दिनभर इस शादी को लेकर चर्चाएं होती रही। राजकिशोर यादव ने बताया कि परिसीमन के चलते नवाबगंज सीट महिला को आरक्षित हो गई है। इसके चलते मैने चुनाव न लड़ने का फैसला लिया लेकिन क्षेत्रीय लोगों के कहने पर शादी कर पत्नी का नामांकन कराया है।कई महिला प्रत्याशी अपने बच्चां को गोद में लेकर नामांकन कराने पहुंची थी। मौके पर कुछ दिव्यांग प्रत्याशी भी अपना नामांकन करवाने पहुंचे हुए थे। इस चुनाव में और दलों की अपेक्षा निर्दलीय प्रत्याशी नामांकन को लेकर ज्यादा दिलचस्पी दिखा रहे हैं। हालांकि अभी नामांकन करने के लिए तीन दिन का समय बचा हुआ है। पेशे से पत्रकार केके साहू ने कहा, ’’मैं पहली बार चुनाव लड़ रहा हूं। इस बार वह निर्दलीय प्रत्यासी के रूप में पर्चा भरा है।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*