Saturday , 21 May 2022
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
हलके विरोध के बीच मुर्गा मार्किट का मसला सुलझा – रविवार शाम तक खाली हो जाएंगी दुकानें।

हलके विरोध के बीच मुर्गा मार्किट का मसला सुलझा – रविवार शाम तक खाली हो जाएंगी दुकानें।

01aabu obaida 9838033331 कानपुर। परेड स्थित ऐतिहासिक मुर्गा मार्किट खाली करने का मसला आज हलके विरोध के बीच लगभग हल हो गया।इलाहाबाद हाईकोर्ट में परेड मुर्गा मार्केट के दुकानदारों की रिट  खारिज होने के बाद अब उन्हें अपनी दुकाने ग्वालटोली खलवा में शिफ्ट करनी होंगी जिसका आवंटन दुकानदारों को जिला प्रशासन द्वारा पहले ही किया जाचुका है।बतादें की की जिला प्रशासन ने मुर्गा मार्केट की ज़मीन को नुज़ूल की बताते हुए उसे खाली करा कर वहाँ मल्टी लेवेल पार्किंग बनाने का निर्णय लिया था और वहाँ सौ सालों से व्यापार कर रहे दुकानदारों की जगह खाली करने के आदेश दिये थे। कानपुर विकास प्राधिकरण को वहाँ मल्टीलेवल पार्किंग बनाने की क़वायद शुरू की और सभी दुकानदारों को दुकाने खाली करने का नोटिस दिया और बदले में खल्वे पर अस्थायी दुकाने देने का आश्वासन दिया।दुकानदारों ने पहले इस प्रस्ताव को मान लिया लेकिन जब खल्वे की ज़मीन जाकर देखि तो पता चला की वह रेलवे और एनटीसी की जगह है इसलिए दुकानदारों ने वहां जाने से मना कर दिया और मामला अदालत तक पहुँच गया।परेड पर कारोबार कर रहे ७९ दुकानदारों ने अदालत में बताया की केडीए जिस जगह  को नुज़ूल की बता रहा है दरअसल वह वक़्फ़ प्रॉपर्टी है।कानपुर जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने जब वक़्फ़ बोर्ड से जवाब माँगा तो वहाँ से वक़्फ़  जायदाद  होने से  इंकार कर दिया गया ।रेकॉर्ड खंगालने पर यह जगह नुज़ूल की साबित हुई और इसी बुनियाद पर परेड के दुकानदारों की रिट इलाहाबाद हाईकोर्ट ने खारिज करते हुए केडीए को वहाँ क़ब्ज़ा दिलाने की इजाज़त देदी। इस बीच जिला प्रशासन की ओर से खलवा स्थित मछली मार्केट के पास केडीए ने टिनशेड डाल  कर अस्थायी दुकानों का निर्माण करा दिया और लाटरी के ज़रिये दुकानदारों को नई दुकानों  आवंटित कर दीं।इसी कड़ी में आज सुबह एडीएम अविनाश सिंह की अगुवाई में नगर निगम का दस्ता और भारी पुलिस बल दुकाने हटाने पहुंचा तो वहाँ दुकानदारों ने विरोध शुरू कर दिया लेकिन भारी पुलिस बल को देखते हुए दुकानदारों की हिम्मत जवाब दे गयी।इसी हंगामे के बीच किसी ने कहा कि यहां इमाम चौक है जो की शिया और सुन्नी फिरकों  के लिए समान आस्था का केंद्र है और मुहर्रम व अन्य मौक़ों पर यहां अक़ीदतमंद ताज़िया रखने के साथ नज़रो नियाज़ करते हैं अगर उसे हाथ लगाया तो प्रशासन के लिए दिक्कत खड़ी हो सकती है। दुकानदारों ने एडीएम अविनाश सिंह को बताया कि इस परिसर में नमाज़ पढ़ने का मुसल्ला भी है जिस पर अपरजिलाधिकारी ने कहा की मुर्गा मार्किट स्थित किसी भी धार्मिक स्थल को छुआ भी नहीं जाएगा और वहाँ पूर्व की तरह लोग अपने धार्मिक कार्यक्रमों को आयोजित कर सकते हैं। इस आश्वासन पर धीरे धीरे उग्र हो रही भीड़ शांत हुई और दुकानदारों ने खुद ही अपना सामान हटाना शुरू कर दिया। ज़िलाप्रशासन ने सभी दुकानदारों को रविवार शाम तक अपना सामन खुद  हटाने की मोहलत दी है जिसके बाद वहाँ रखा सामान नगर निगम ज़ब्त कर लेगा।मुर्गा मार्किट में दिन भर चले हंगामे से आसपास इलाक़ों में लोग बवाल की आशंका से डरे रहे वहीँ प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों ने भी फूँक फूँक कर क़दम रखा और हर विरोधी स्वर को बड़ी होशमन्दी से दबा दिया।01b

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*