Tuesday , 19 October 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध

मेरठ।विधायक ने एसएसपी से निष्पक्ष जांच को कहा…..

09-07-2013 मेरठ। पशु व्यापारी की हत्या के मामले में जेल भेजे गए छुछाई निवासी कवींद्र के परिजनों और हस्तिनापुर विधायक ने एसएसपी से मुलाकात की। उन्होंने मांग की है कि मामले में निष्पक्ष जांच कराई जाए।
हस्तिनापुर के नंगलाचांद निवासी वरीश (पशु व्यापारी) की ऐंची मार्ग पर 30 जून को लूट के विरोध में हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने मामले में छुछाई निवासी कवींद्र को पकड़ा और पांच दिन तक हिरासत में रखकर लूट और हत्या का आरोपी बनाते हुए जेल भेज दिया था। परीक्षितगढ़ थाना पुलिस की कस्टडी में कवींद्र ने खुद को बेकसूर बताते हुए गले पर धारदार हथियार से वार कर लिया था। अगले दिन ग्रामीणों ने भी हंगामा प्रदर्शन करके कवींद्र को निर्दोष बताया था। रविवार को गुर्जर बिरादरी की पंचायत हुई, जिसमें एसएसपी दफ्तर के घेराव का ऐलान हुआ था। सोमवार को हस्तिनापुर विधायक प्रभुदयाल वाल्मीकि के साथ ग्रामीण एसएसपी दफ्तर पहुंचे। उन्होंनेे एसएसपी से सही जांच कराने की मांग की। एसएसपी ने निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया।
मानवाधिकार आयोग मांग चुका है आख्या
मेरठ। कवींद्र के परिजनों ने आरोप लगाया था कि पुलिस ने कवींद्र को पांच दिन तक थाने में रखकर थर्ड डिग्री दी। इसकी शिकायत होने पर मानवाधिकार आयोग ने रविवार को पुलिस से आख्या मांगी।
तैनात कर दी अतिरिक्त फोर्स
मेरठ। कवींद्र प्रकरण में सोमवार को गुर्जर बिरादरी के लोगों की भारी भीड़ एसएसपी दफ्तर पहुंचने की सूचना थी। एलआईयू ने भी इसकी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को दी थी। इसके चलते एसएसपी दफ्तर पर अतिरिक्त फोर्स तैनात कर दी गई। अंबेडकर चौराहे के पास तो पुलिसकर्मियों ने दो मोटर साइकिल बीच सड़क में लगाकर बड़े वाहनों की आवाजाही ही रोक दी थी, मगर उतनी भीड़ नहीं पहुंची। करीब 100 लोग पहुंचे जरूर, मगर शांतिपूर्वक एसएसपी से मुलाकात करके लौट गए।
अंबेडकर चौराहे पर जाम में फंसे अफसरों के वाहन
मेरठ। सोमवार दोपहर जब पुलिसकर्मियों ने अंबेडकर चौराहे के पास एसएसपी दफ्तर की तरफ वाहनों की आवाजाही रोक दी थी, तभी एक ट्रैक्टर ट्राली में कुछ लोग सर्किट हाउस की तरफ से चौराहे पर पहुंचे। उन्हें कमिश्नरी चौराहे की तरफ जाना था, लेकिन पुलिसकर्मियों ने ट्रैक्टर ट्राली रोक दी। इसके चलते काफी देर तक यातायात जाम हो गया। इस दौरान जिलाधिकारी की कार के अलावा कई प्रशासनिक अफसरों की गाड़ियां भी जाम में फंस गईं। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने ट्रैक्टर ट्राली को निकाला, तब जाकर जाम खुला।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*