Monday , 17 January 2022
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध

कानपुर  में बिजली की किल्लत से जूझ रहे केस्को ने छेड़ा बिजली बचाओ अभियान,

कानपुर जनपद में 75 मेगावॉट बिजली बचाने के लिए 18 डिविजनों को निर्देश, सोलर एनर्जी पर निर्भरता बढ़ाने के लिए भी लोगों से की अपील, लोगों को नहीं आ रहा रास, लोग बोले- केस्को पहले रोके लाइन लॉस, कटियाबाजी, और महकमे के बाबुओं की मिलीभगत से होने वाली चोरी
कानपुर में बिजली की किल्लत से जूझ रहे केस्को ने छेड़ा बिजली बचाओ अभियान, कानपुर जनपद में 75 मेगावॉट बिजली बचाने के लिए 18 डिविजनों को निर्देश, सोलर एनर्जी पर निर्भरता बढ़ाने के लिए भी लोगों से की अपील, लोगों को नहीं आ रहा रास, लोग बोले- केस्को पहले रोके लाइन लॉस, कटियाबाजी, और महकमे के बाबुओं की मिलीभगत से होने वाली चोरी
एंकर- यूपी में लोगों पर इस वक्त दोहरी मार पड़ रही है। एक तो बढ़ती गर्मी और दूसरा बिजली की किल्लत। इसी के चलते पावर कॉरपोरेशन ने बिजली कंपनियों को बिजली क्षय बचाने की गाइडलाइन जारी की हैं जिसके तहत कानपुर शहर में बिजली प्रदान करने वाली कंपनी केस्को ने 75 मेगावॉट बिजली बचाने की गुजारिश सीधे लोगों से की है। लेकिन लोग कह रहे हैं कि पहले केस्को अपने कर्मचारियों और अधिकारियों पर नकेल कसे।
वीओ- कटियाबाजी….लाइन लॉस….बिजली की चोरी….ये ऐसे मुद्दे हैं जो बिजली कंपनियों के लिए किसी बुरे सपने के बराबर होते हैं। बिजली कंपनियां जितना पैसा आम उपभोक्ताओं से खेल करके कमाती हैं उससे ज्यादा पैसा कटियाबाजी लाइन लॉस में चला जाता है। इसीलिए पॉवर कॉरपोरेशन ने आदेश पारित कर बिजली कंपनियों को बिजली क्षय बचाने के आदेश दिए हैं। कानपुर शहर को बिजली देने वाले कंपनी केस्को ने इसके लिए बाकायदा एक रणनीति तैयार की है।

– कानपुर को 18 डिविजनों में बांटा गया है।
– सभी डिविजनों को 5-6 मेगावॉट बिजली बचाने का लक्ष्य दिया गया है
– गुमटी-दादानगर डिवीजन इंडस्ट्रियल इलाके हैं
– दोनों इलाकों को इस मुहिम में शामिल नहीं किया गया है
– बिजली की किल्लत से निपटने के लिए सोलर एनर्जी पर भरोसा करने की बात हो रही है
– सोलर प्लांट लगाने और उससे पैदा होने वाली बिजली केस्को के खरीदने का ऑफर दिया जा रहा है

सूबे में प्रचंड गर्मी के चलते बिजली की मांग 15 हजार मेगावॉट के आसपास है जबकि आपूर्ति 13 हजार मेगावाट। इसी के मद्देनजर पावर कॉरपोरेशन ने सभी बिजली कंपनियों को ये आदेश पारित किया है। ऐसे में कटौती मुक्त कानपुर शहर की बिजली को जारी रखने के लिए केस्को को 75 मेगावॉट बिजली की खपत कम करने के लिए कहा गया है।

– वर्तमान में कानपुर में 580 मेगावॉट बिजली की खपत
– 475-490 मेगावॉट के आसपास आपूर्ति हो रही है
– 16 अधिशासी अभियंताओं को खपत कम करने का टास्क
– 5-6 मेगावॉट बिजली खर्च करें कम

केस्को ने बिजली की किल्लत से जूझने के लिए कई अन्य कदम भी उठाए हैं। बिजली की कमी से लोगों को बचाने के लिए केस्को ने सोलर एनर्जी का ऑप्शन लोगों से अपनाने के लिए कहा है। साथ ही जो शख्स सोलर प्लांट लगवाएगा वो केस्को को बिजली बेच भी सकता है।
बाइट- सेल्वा कुमारी जे, केस्को एमडी
वीओ- केस्को की इस मुहिम की लोगों के बीच मिलीजुली प्रतिक्रिया है। बिजली उपभोक्ताओं का कहना है कि बिजली बचाने की अपील तो ठीक है। सोलर एनर्जी का ऑप्शन भी चलेगा लेकिन क्या केस्को अपने कर्मचारियों-अधिकारियों की मिलीभगत को रोक पाएगा। समानांतर फर्जी केस्को के सब-स्टेशन चलाए जा रहे हैं। शहर के कई इलाके कटिया से ही रौशन हो रहे हैं। लाइन लॉस पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। उपभोक्ताओं से मनमर्जी बिजली का बिल वसूला जा रहा है और अपील भी बिजली उपभोक्ताओं से ये जायज नहीं।

 फिलहाल केस्को एमडी ने शहरवासियों को 24 घंटे बिजली की सप्लाई देने के लिए 16 सब स्टेशनों को काम पर लगा दिया है। इस मुहिम में फैक्ट्री एरिया को रियायत दी गई है। इसके पीछे वहां से होने वाली मोटी आमदनी भी एक कारण है। अधिशासी अभियंता चोरी या कटियाबाजी के लिए अभियान भी चला रहे हैं। लेकिन सवाल ये है कि जब केस्को के कर्मचारी और अधिकारी है मिलीभगत में शामिल हों तो पॉवर कॉरपोरेशन और केस्को की ये अपील कितनी कारगर साबित होगी समझा जा सकता है।IBN E HASAN

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*