Monday , 8 August 2022
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
कानपुर.(exclusive)हैप्पी होम्स इंफ्रा डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी के खिलाफ शिकंजा कसने की तयारी

कानपुर.(exclusive)हैप्पी होम्स इंफ्रा डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी के खिलाफ शिकंजा कसने की तयारी

aaabu obaida98380 33331 ( editor/owner )snn सत्यम न्यूज़ की खबर का बड़ा असर ,कोतवाली सीओ ने आरोपियों के खिलाफ कड़े क़दम उठाने की बात कही .(exclusive)

निदाश्कों द्वारा सत्यम न्यूज़ को खरीदने की कोशिश.कहा की ‘अरे सर खबर रोकिये कल आराम से बैठ कर बात  करें गे ‘

हैप्पी होम्स इंफ्रा डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी के खिलाफ satyamnews.com पर खबर छपने के बाद धोखाधड़ी करने वाले आरोपी कथित बिल्डर्स के विरुद्ध पुलिस शिकंजा कसने की तयारी कर रही है .महीनो से मामले को दबाये कोतवाली पुलिस सत्यम न्यूज़ पर एक्सक्लूसिव खबर छपने के बाद नींद से जागी है .बता दें की चार करोड़ से अधिक के घोटाला करने वाली कम्पनी के खिलाफ जब कुछ लोगों ने शिकायत की तो बड़ी मुश्किल से हल्की धाराओं में कोतवाली पुलिस ने मुक़दमा दर्ज कर जांच की बात कही थी मगर सूत्रों के मुताबिक़ आरोपियों को मुक़दमा लिखने के बावजूद बड़ी इज्ज़त के साथ कोतवाली में बैठा कर खातिर दारी की गयी.सभी आरोपी बड़े आराम से दफ्तर बंद कर दुसरे इलाकों में फिर इसी काम में लग गए जिस से अंदाजा लगाया जा सकता है की पुलिस की मुठ्ठी ज़रूर गर्म की गयी हो गी .विश्वस्त सूत्रों की माने तो आरोपियों को कानपुर के कुछ पत्रकारों ,सताधारी नेताओं और अधिकारियों का संरक्षण प्राप्त है .यही वजह है की मामूली घटनाओं में लोगों को फर्जी गुडवर्क के नाम पर जेल भेजने वाली पुलिस ने चार करोड़ से अधिक की धोखा धडी करने वाले कम्पनी के तीनो निदेशकों को खुली छूट दी और किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया जब की तीन में से एक निदेशक ने एक शिकायत कर्ता रफत जमाल के बच्चे तक को उठाने की बात कही थी जिसकी रेकार्डिंग सत्यम न्यूज़ के पास मौजूद है वो रेकार्डिंग अत्यधिक असभ्य भाषा के इस्तेमाल की वजह से हम आप को सुनवा नहीं सकते.

पाठकों को बता दें की कुछ साल पहले कानपुर में  वजूद में आई  हैप्पी होम्स इंफ्रा डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी ने लखनऊ में दुसरे की ज़मीन को अपना बता कर उसपर आलिशान फ्लैट्स बना कर देने का सौदा किया था अच्छी मार्केटिंग और शानदार आफिस देख कर एक सैकड़ा लोगों ने विश्वास किया और झांसे में आकार २ लाख से २९ लाख रूपये नक़द और चेक के माध्यम से कम्पनी बुकिंग के नाम पर जमा कर दिए .रक़म करोड़ों में हाथ में आते ही निदेशकों ने बैंकाक आदि शहरों में जम कर अयाशी की .कुछ महीने बीतने के बाद लोकेशन पर जब निर्माण कार्य शुरू नहीं हुआ तो लोगों ने सवाल जवाब करने शुरू कर दिए वहीँ कम्पनी के सीनियर मार्केटिंग मैनेजर ने जब लखनऊ में पड़ताल की तो वहां कम्पनी के नाम से कोई ज़मीन ही नहीं थी .जानकारी होने पर रफत जमाल सहित उनके साथी कर्मचारी शिरीष व कई ग्राहकों ने कोतवाली में धोखा धडी की रिपोर्ट बड़ी मुश्किल से दर्ज कराई जिस में आई जी जोन तक शिकायत करनी पड़ी थी .हैरत की बात तो यह है की सारा मामला लोगों (मीडिया )की जानकारी में होने के बावजूद इस खबर को दबाये रखने में तीनो निदेशक ‘राजीव सिंह ,मोहित बाजपाई ,और मोहम्मद नकी रजा कामयाब रहे .किसी माध्यम से पीड़ित दो दिन पूर्व सत्यम न्यूज़ के कार्यालय पहुचे और सभी दस्तावेज़ दिखाए .सत्यम न्यूज़ ने अपनी ज़िम्मेदारी को समझते हुए पीड़ितों के ब्यान रिकार्ड किये और दस्तावेज़ देखे .सत्यम न्यूज़ ने तीन में से दो निदेशकों राजीव सिंह और मोहित बाजपाई से फ़ोन पर बात की तो उन्हों ने ज़मीन की खरीद से मुताल्लिक गोल मोल जवाब दिए और कहा की किसी तरह वो सब का पैसा लौटा देंगे ,आप खबर को रोकिये आप से मुलाक़ात भी हो जाये गी ,नकी रज़ा का फ़ोन स्विच आफ था इस लिए बात नहीं हो सकी.

इस मामले में कोतवाली सीओ जीतेन्द्र श्रीवास्तव से बात की तो उन्हों ने सत्यम न्यूज़ को भरोसा दिलाया की पीड़ितों की पूरी बात सुनी जाए गी और यदि रिपोर्ट लिखने में धाराओं में गड़बड़ी की गयी है तो उनमे तरमीम की जाये गी और उसी आधार पर फ्राड करने वालों के खिलाफ वारंट जारी किये जाएँ गे .यदि आरोपी हाज़िर नहीं होते तो गैर ज़मानती वारंट जारी होगा और विधिक कार्रवाई हो गी .

सत्यम न्यूज़ में खबर प्रकाशित होने के बाद सभी नेदेशक फरार हो चुके हैं जिनमे से नकी रज़ा के दुबई भागने की खबर है ,सत्ता धारी दल के नेताओं और कुछ कथित दलाल पत्रकारों के दबाव में पुलिस के लचर रवैये से दुखी पीड़ित २४ जुलाई को सुबह जिलाधिकारी कानपुर रोशन जैकब से मिल कर शिकायत करें गे .अब देखना है की सत्ता और पत्रकारिता  के दलालों के चंगुल में फँसी पुलिस क्या क़दम उठाती है .खबर लिखे जाने तक पुलिस ने किसी भी नेदेशक के घर पर दबिश तक नहीं दी न ही फ्राड कम्पनी के बंद पड़े दफ्तर में छापा मार कर कम्प्यूटर और कागज़ात आदि को कब्जे में लिया .

इस मामले में कुछ बुद्धिजीवियों ने कहा की लोगों को ज़मीन के कागजात देख कर सोच समझ कर निवेश करना चाहिए ,आज के दौर में भी  लोग बेवकूफ बन रहे हैं हैरत की बात है.

abukanpur@gmail.com

www.satyamnews.com सच लिखना ही हमारी पहचान .

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*