Monday , 18 December 2017
Breaking News
हलाकू चंगेज खां से भी बड़ा जालिम था यजीद

हलाकू चंगेज खां से भी बड़ा जालिम था यजीद

snnकानपुर 4 नवम्बर। हलाकू चंगेज खां से भी बड़ा जालिम था यजीद। जिसकी जुल्म का जवाब नवास-ए-रसूल हजरत सैयदना इमामे हुसैन रजि. ने अपनी शहादत  से दिया है। हजरते सैयदना इमामे हुसैन का यही पैगाम था शरीयत  पर अमल और शरीयत को बचाने के लिये वक्त आ जाये तो जान व माल सबकी कुरबानी पेश  कर देनी चाहिये। यही वजह है कि हजरते सैयदना इमामे हुसैन ने 72  लोगों के साथ कुरबानी पेश  करके यजीदी जुल्म का खात्मा कर दिया। हजरते सैयदना इमामे हुसैन गर्दन कटा कर के भी जिन्दा हैं। उक्त विचार आल इंडिया गरीब नवाज कौंसिल के तत्वावधान में आयोजित जिक्रे शहीदाने  करबला व इस्लाहे मआशरा  के जलसे को सम्बोधित करते हुये आल इंडिया गरीब नवाज के राश्ट्रीय अध्यक्ष व इमामे ईदगाह गदियाना मौलाना मोहम्मद हाषिम अषरफी ने हीरामन के पुरवा में व्यक्त किये। श्री अशरफी  ने कहा कि हजरते सैयदना इमामे हुसैन सब्र व शुक्र का नमूना थे। यही वजह है कि यजीद जैसे जालिम, जाबिर, शराबी , अहंकारी, फसादी, फितना-ए-वक्त गोया यजीद की बेजा ताकत दहशत  के सामने सिर नहीं झुकाया बल्कि सिर कटाकर अपने नानाजान पैगम्बरे इस्लाम हजरत मोहम्मद मुस्तफा सल्ल. के दीन को कयामत तक के लिये बचा लिया। जनाब अशरफ़ी  ने कहा कि शराब , जुआ, गाली गलौज, चोरी-डकैती, झूठ मक्कारी, जुल्म, बे इंसाफी, बदसलूकी गर्ज के समाज में फैली हुई बुराइयों से बचना इमामे हुसैन की सच्ची गुलामी है।अशरफ़ी  ने कहा कि वर्तमान समय में मोबाइल सारी बुराइयों की जड़ बन चुका है। आज मोबाइल से आपसी दूरियां बढ़ती जा रही हैं और बुराइयां सिर चढ़कर बोल रही हैं ये मोबाइल का परिणाम है। मैं नहीं कहता कि मोबाइल नाजायज है मगर गलत झूठ गन्दे कामों में प्रयोग न सिर्फ खुद को बर्बाद करते हैं बल्कि एक अच्छे समाज की इमारत ढहा देता है। आज व्हाट्सअप के माध्यम से कुछ शरपसंद लोग अफवाहबाजारी कर भावनाओं से खिलवाड़ करने पर तुले रहे हैं। जिससे फितना व फसाद को हवा मिलती है। आज हुसैनी मंच से ये पैगाम दिया जाता है कि मोबाइल का प्रयोग गलत कामों के लिये न करें।इससे पूर्व जलसे की शुरुआत तिलावते कुरान पाक से मौलाना गुलाम हसन ने की और बारगाहे रिसालत में हाफिज गुलाम जीलानी, मौलाना मकसूद आलम रजवी ने नात शरीफ का नजराना पेश  किया। जलसे की अध्यक्षता आल इंडिया गरीब नवाज कौंसिल के शहरी अध्यक्ष मौलाना मोहम्मद महताब आलम कादरी व संचालन मोहम्मद शाह आजम बरकारी ने किया। इस अवसर पर प्रमुख रूप से मौलाना मोहम्मद आफताब आलम कादरी, मौलाना मतीउर्रहमान रजवी, मौलाना मोहम्मद अजमेरउद्दीन, मास्टर इकबाल नूरी, हाफिज मोहम्मद रियाज, मौलवी मो. उसामा, हशमत अली नूरी आदि उपस्थित थे।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>