Monday , 26 September 2022
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
स्वतंत्रता सेनानी की मांगें मेडिकल कालेज प्राचार्य ने मानी-नही करेंगे आत्मदाह .

स्वतंत्रता सेनानी की मांगें मेडिकल कालेज प्राचार्य ने मानी-नही करेंगे आत्मदाह .

कानपुर।27feb  स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के परिजन से हैलट अस्पताल में जूनियर डाक्टरों द्वारा पिछले दिनों हुई अभद्रता और मारपीट की घटना शहर में चर्चा का विषय बनी हुई है। घटना के विरोध में अखिल भरतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी संगठन ने कचहरी के सामने वाली सड़क पर अनशन शुरू कर दिया। प्रशासन उस समय सकते में आगया जब पीड़ित अनशन कारी ने ४८ घंटे में न्याय न मिलने पर शनिवार को आत्मदाह की धमकी दे डाली। बतादें की की कुछ रोज़ पूर्व स्वतंत्रता सेनानी दिलीप सिंह बाग़ी अपनी पुत्रवधु को इलाज के लिए हैलट ले गए थे जहां इलाज में लापरवाही पर उन्हों ने आपत्ति जताई थी। इस आपत्ति से नाराज़ जूनियर डाक्टरों ने हमेशा की तरह न सिर्फ स्वतंत्रता सेनानी से बदसुलूकी की बल्कि इलाज के लिए  भर्ती मरीज़ को खून देने गए प्रत्रकार मनोज मिश्रा को भी डाक्टर राजकुमार मौर्या ने मारा और उनका मोबाइल तोड़ दिया था। इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली इस घटना की सभी ने निंदा की वहीँ पीड़ित परिवार २५ फ़रवरी को अपने सहयोगियों के साथ अनशन पर बैठ गया। इस विरोध में कानपुर नगर के बार व लायर्स एसोसिएशन भी मुखर हो गयी और उनके पदाधिकारी धरने में शामिल होगये।शनिवार को पीड़ित स्वतंत्रता सेनानी द्वारा प्रशासन को दी हुई मोहलत खत्म होने को आई तो जिला प्रशासन ने आत्मदाह की चेतावनी को गंभीरता से लेते हुए जीएसवीएम मेडिकल कालेज के प्राचार्य डाक्टर नवनीत कुमार से बात की। प्राचार्य ने भी मामले को संज्ञान में लेते हुए पीड़ित परिवार से घटना पर खेद व्यक्त करते हुए वार्ता पर बुलाया है। डाक्टर नवनीत ने बताया कि अनशनकारियों के प्रतिनिधिमंडल से बात होगयी है और उनकी सभी मांगों को मान लिया गया है।इस् समझौते से जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली है।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*