Monday , 18 December 2017
Breaking News
फिल्म नायक के हीरो से प्रभावित पार्षद प्रत्याशी।

फिल्म नायक के हीरो से प्रभावित पार्षद प्रत्याशी।

कानपुर।abu obaida राजनीति गन्दगी है लेकिन उसे साफ़ करने के लिए कोई आगे नहीं आना चाहता -फिल्म नायक का यह डायलॉग फिल्म के हीरो अनिल कपूर को तो तुरंत समझ में आ गया था लेकिन कानपुर निवासी पूर्व मर्चंट नेवई कर्मी और एमबीबीएस डाक्टर पुत्र फज़ल महमूद को इसे समझने में एक दशक लग  गया। फज़ल महमूद ने जब  इस डायलॉग को सुना था तभी इस पर अमल करने की ठानी थी लेकिन कोई ऐसा मंच नहीं मिल पा रहा था जिसके सहारे वह राजनीति में घुस चुकी गन्दगी को साफ़ कर सकें। रोज़ी रोटी की उधेड़ बुन और बच्चों की अच्छी परवरिश के चक्कर में कई साल बिता दिए और मौजूदा राजनैतिक हालात को देख अंदर ही अंदर कुढ़ते रहे।हालांकि बीच में कई चुनाव आये लेकिन वह सांसद या विधायकी के चुनावी खर्चों का हिसाब लगा कर घर ही बैठे रहे। अब जब यूपी में निकाय चुनाव की घोषणा हो चुकी है और प्रचार भी शुरू है तो अचानक उन्हें ख्याल आया कि बहुत ही कम खर्च में  पार्षद बन कर गन्दगी साफ़ करने की पहल की जाय। बस यारों से चर्चा की और दलेल पुरवा वार्ड 83 से चुनाव लड़ने की घोषणा करदी।निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर अपने आप को प्रोजेक्ट करने वाले फज़ल महमूद की लोकप्रियता को देखते हुए आसानी से आम आदमी पार्टी का सिंबल और कर्यकर्ताओं का अच्छा समर्थन भी मिल गया।पार्टी का टिकट और कैडर वोट हौसला बढ़ाता है ऐसा कहना है प्रत्याशी फज़ल महमूद का।इस क्षेत्र से फिलहाल मोहम्मद सारिया पार्षद हैं जिनकी फॉलोइंग भी अच्छी है। एक सवाल के जवाब में फज़ल ने कहा कि उनका मुक़ाबला किसी से नहीं ना ही वह किसी को अपना प्रतिद्वंदी मानते हैं। फज़ल ने कहा कि ये क्षेत्रीय जनता का चुनाव है क्षेत्रीय समस्याओं का चुनाव है और उन्हों ने भी वर्षों से गरीब लोगों की सेवा निस्वार्थ की है ,गरीबों के इलाज के लिए काम किया है और कर रहे हैं।पूछने पर बताया कि उनका ग्रुप कई सालों से फंड जुटा कर असहाय लोगों के इलाज का ज़िमा लेता है और आर्थिक रूप से परेशान कई घरों का राशन चुपचाप हर महीने पहुंचाता है लेकिन वो इस मामले पर ज़्यादा बखान नहीं करना चाहते क्यूंकि  इस मदद के पीछे कभी कोई राजनितिक सोच नहीं रही ये काम तो पार्षद बनने के बाद भी जारी रहेगा। बीएससी फज़ल महमूद ने बताया कि उनके MBBS पिता डाक्टर महमूद भी वर्षों से लोगों का इलाज कर रहे थे लेकिन अब उम्र ज़्यादा  होने के कारण अधिकतर घर पर ही रहते हैं फिर भी स्वास्थय ठीक होने पर क्लिनिक आते हैं।44 साल की उम्र में भी क्रिकेट मैच खेलने वाले फज़ल संगीत के शौक़ीन हैं ,उन्हें किताबें पढ़ना और समाज सेवा करना पसंद है।पार्षद प्रत्याशी कहते हैं आम आदमी पार्टी से राजनीति की शुरुआत एक अच्छा क़दम है क्यूंकि पार्टी मुखिया अरविन्द केजरीवाल भी भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग लड़ रहे हैं और वह भी इस जंग को ज़ोर शोर से जारी रखेंगे। आगे  कहा कि कानपुर नगर निगम के सदन में जनता चुन कर ज़रूर भेजे गी जहँ वो एक जन प्रतिनिधि के तौर पर क्षेत्र की समस्याओं को हल करवाने के लिए संघर्ष करंगे और जनता को दिखा देंगे कि राजनीति में पढ़े लिखे लोग उतर कर गन्दगी को साफ़ कर सकते हैं।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>