Friday , 17 September 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
बिहार पर सिर्फ बिहारी ही राज कर सकता है कोई बाहिरी नहीं

बिहार पर सिर्फ बिहारी ही राज कर सकता है कोई बाहिरी नहीं

पटना-राजेश मिश्रbihar-polls-3

बिहार विधानसभा चुनाव के परिणामों ने नितीश और लालू के महागठबंधन पर अपनी मोहर ठोकने के साथ ही यह भी साबित कर दिया है कि बिहार की गददी में सिर्फ और सिर्फ बिहारी ही राज करेगा उसके अलावा बाहरी कोई नहीं दुश्मन से दोस्त बने लालू की राजद ने हालांकि जदयू के मुकाबले सीटे ज्यादा पाई है बावजूद इसके नितीश का ही मुख्यमंत्री बनना लगभग तय माना जा रहा है। इस संबंध में लालू की पुत्री मीसा यादव का कहना है। कि गठबंधन की जो शर्तें पूर्व में तय हुई थी उसी के अनुसार पार्टी अपने निर्णय पर कायम रहेगी और नितीश ही प्रदेश की सत्ता की कमान सभालेगे। वहीं बीजेपी के नेतृत्व वाले राजग की चुनाव में अप्रत्याशित पराजय ने केंद्र की मोदी सरकार सहित राज्य के भाजपा व उनके खोमे से जुड़े सहयोगियों के कान खड़े कर दिए है। जबकि आम जनमानस में जीत को लेकर खासा उत्साह है। और उनका कहना है कि इस बार छठ पूजन बिहार में अभूतपूर्व तरीके से मनाया जाएगा। पटना के अधिवक्ता शिव पूजन सिंह कहते है। कि मोदी ने जिस तरीके से इस चुनाव को अपनी प्रतिष्ठा से जोड़ते हुए अनाप शनाप चुनावी रैलियां आयोजित कर बदजुबानी की सीमाओं को तोड़ने का काम किया ऐसा बिहार के राजनैतिक इतिहास में पहली बार किसी प्रधानमंत्री को करते देखा गया है। जबकि पटना के ही सरदार महेन्द्र सिंह कहते है। कि चुनाव में आरोप-प्रत्यारोप एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। लेकिन देश के सर्वोच्च पद पर बैठे व्यक्ति को कम से कम इतनी दिलचस्पी नहीं लेनी चाहिए वह भी दिल्ली चुनाव के परिणाम देखने के बाद तो यह भूल करनी ही नहीं चाहिए थी। पटना के ही एक व्यापारी बनवारी गुप्ता कहते है कि नितीश के जंगलराज व विकास को अगर नरेन्द्र मोदी अपनी आंखों के देखा होता तो शायद चुनाव में ऐसी बेबुनियादी बातें न करते उन्होंने जो भी कहा वह स्थानीय भाजपा नेताओं की मनगढ़न्त कहानियों को आधार बनाकर ऐसी भाषणबाजी की जो उनके ही गले की फांस बन गई और अब इसका सीधा असर देश के अन्य राज्यों में होने वाले विधानसभा के चुनाव पर भी पड़ने से कोई रोक नहीं सकता। चुनाव परिणामों में तो सबसे ज्यादा हालात समाजवादी पार्टी की हालत खराब कर दी। जिसने बिना किसी ठोस जमीनी आधार के प्रदेश सभी 243 सीटों पर अपने प्रत्याशियों को चुनाव मैदान पर तो उतार दिया लेकिन अब जब परिणाम सामने आए तो कोई भी अपना मुंह खोलने को तैयार नही है। बिहार में चुनाव नतीजों के बाद चारों तरफ खुशी का मौहाल है जगह जगह मिठाईया वितरित की जा रही है और ढ़ोल ताशों की धूम पर लोग महागठबंधन की जय जय कार करते नजर आ रहे है। वहीं भाजपा के स्थानीय नेताओं के चेहरों से हवाईया उड़ती साफ नजर आ रही है।

 

 

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*