Saturday , 25 September 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
भूकम्प से कानपुर भी दहला। कई इमारतों में आई दरारें कोई हताहत नही।

भूकम्प से कानपुर भी दहला। कई इमारतों में आई दरारें कोई हताहत नही।

kanpur.25.04.2015 नेपाल में आये ज़बरदस्त भूकम्प ने आज भारत को भी हिला कर रख दिया। दोपहर १२ बजे आये भूकम्प से जहाँ पूरे भारत में लोग दहल गए वहीँ कानपुर में भी दहशत भरा माहौल देखने को मिला । दोपहर ११ बज कर ४१ मिनट पर जब ज़मीन हिली तो एक क्षण तो लोगों को …

Review Overview

0

DSC_0029

DSC_0030

DSC_0031

DSC_0032

DSC_0033

DSC_0036

DSC_0037kanpur.25.04.2015 नेपाल में आये ज़बरदस्त भूकम्प ने आज भारत को भी हिला कर रख दिया। दोपहर १२ बजे आये भूकम्प से जहाँ पूरे भारत में लोग दहल गए वहीँ कानपुर में भी दहशत भरा माहौल देखने को मिला । दोपहर ११ बज कर ४१ मिनट पर जब ज़मीन हिली तो एक क्षण तो लोगों को लगा की उन्हें चक्कर आया है मगर कुछ ही सेकंड में कम्पन बढ़ा तो लोग चिल्लाते हुए घरों से बाहर खुली जगह की तरफ दौड़ पड़े।देखते ही देखते पूरा शहर ख़ौफ़ज़दा सा सड़कों पर खड़ा ऊपर ऊँची बिल्डिंगों की तरफ देख रहा था। खौफ का आलम ये था की घनी बस्ती के लोग बेतहाशा स्कूल के ग्राउंड और पार्कों की तरफ दौड़े जारहे थे। सब से ज़्यादा परेशान बुज़ुर्ग और महिलाऐं थी जो चीखते हुए कह रही थीं उन्हें भी किसी तरह नज़दीक के ग्राउंड तक पंहुचा दो मगर अफरातफरी के इस माहौल में कोई किसी की सुनने को तयार ही नहीं था। कई कई मालों की बिल्डिंगों से लोग गिरते पड़ते नीचे पहुंचे तो लोगों के चेहरे मौत के खौफ से सफ़ेद पद चुके थे। इस क़यामत के मंज़र में लोगों की चीखों ने माहोल को और भी खौफनाक बना दिया। कुछ लोगों ने हिम्मत दिखाते हुए अपने घरों से क़ीमती सामन साथ ले लिया। इस बीच लोग किसी तरह अपने आप को सुरक्षित ठिकाने पर पहुंच राहत महसूस कर ही रहे थे की १२ बज कर १९ मिनट पर दुसरे ज़लज़ले ने लोगों को फिर से दहला दिया।दहशत में लोग अपने अपने खुदा को याद करने लगे। मस्जिदों से अज़ाने शुरू हुई तो हज़ारों लोग मंदिर भगवान की शरण में पहुंच गए। और फिर शुरू हुआ अफवाहों का दौर। किसी के मोबाइल पर संदेश आया की एक बजे दुबारा भूकम्प आये गा बस फिर क्या था महिलाओं की चीखें शुरू हो गईं वहीँ लोग अपने बच्चों को लेने स्कूलों की तरफ दौड़ पड़े।सभी स्कूलों में तुरंत बच्चों को ग्राउंड में पहुचाया गया इस आपाधापी में गिर कर कई छात्र छात्राएं चुटहिल हो गई। स्थिति की नज़ाकत को देखते हुए जिला प्रशासन ने आपदा प्रबंधन को अलर्ट कर दिया। सभी अस्पतालों में ज़रूरी इंतजामात किये जाने लगे। बिजली विभाग ने दुसरे झटके के बाद पूरे शहर की बिजली एहतियातन काट दी। किसी तरह एक बजा और तीसरा झटका नहीं आया तो लोगों के बीच एक अफवाह और उडी के ३ बजे फिर से भूकम्प आये गा । इसपर जिला प्रशासन ने सोशल मीडिया पर लोगों से अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की।जैसे जैसे स्थिति सामान्य हुई लोगों ने ख़ुदा का शुक्र अदा किया। इस बीच बाज़ारों को बंद कर लोग अपने घरों की तरफ भागे। कुल मिला कर दोपहर ११ बज कर ४१ मिनट से दोपहर २ बजे तक मौत के खौफ को लोगों ने एक दुसरे के चेहरों पर महसूस किया। रिक्टर स्केल ७. ९ पर आये ज़बरदस्त झटकों से कानपूर में किसी की जान तो नहीं गई मगर कुछ इमारतों में दरारें पड़ने की खबर है। abu obaida 9838033331

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*