Thursday , 28 October 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
वकीलों द्वारा बनाए गए संगठनों को बार व लायर्स एसोसिएशन ने बताया अवैध।

वकीलों द्वारा बनाए गए संगठनों को बार व लायर्स एसोसिएशन ने बताया अवैध।

वकीलों के विभिन्न संगठनों और बार व लायर्स  एसोसिएशन में टकराव की नौबत। संगठन पदाधिकारियों ने कहा कि अधिवक्ता हित में ही कार्य करते हैं संगठन
कानपुर। कानपुर कचहरी में प्रेक्टिस करने वाले वकीलों द्वारा बनाए गए एक दर्जन से अधिक संगठनों को बार व लायर्स एसोसिएशन ने संयुक्त रूप से नोटिस भेज कर तत्काल सभी संगठनों को बंद किये जाने का फरमान जारी  किया  है। नोटिस में कहा गया है कि बार व लायर्स को छोड़ कर सभी संगठन अवैध हैं। इस नोटिस के जवाब में शुक्रवार को अधिवक्ताओं द्वारा चलाये जारहे संगठनों के पदाधिकारी व मेंबर्स अधिवक्ता कचहरी स्थित हनुमान मंदिर परिसर में जमा हुए और एक बैठक की। बैठक में  बार व लॉयर्स एसोसिएशन द्वारा भेजे गए नोटिस पर चर्चा करते हुए यंग लायर्स एसोसिएशन के महामंत्री रतन अग्रवाल  ने कहा कि कानपुर के अधिवक्ताओं द्वारा जो भी संगठन चलाये जा रहे हैं वह सब वकीलों के हित के लिए दिनरात प्रयासरत रहते हैं। किसी भी वकील को कोई दिक्कत पेश आती है तो यही संगठन तन मन धन से सहयोग करते हैं और उसे न्याय दिलाने के लिए लड़ाई लड़ते हैं। रतन अग्रवाल ने मिसाल देते हुए बताया कि इन संगठनों से हुड सभी वकीलों ने कृष्णा हॉस्पिटल में डाकटरों की लापरवाही से अधिवक्ता सुनील राठौर की पत्नी की मृत्यु अधिवक्ता ासशिक अली के अचानक लापता होजाने अधिवक्ता राम विलास की भतीजी की ह्त्या को हादसे में बदले जाने के मामलों में साथ देते ज़ोरदार भूमिका अदा की थी जबकि बार एवं लायर्स एसोसिएशन ने उपरोक्त मामलों में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई थी। इनके अलावा भी कई मामलों में यही संगठन बार व लायर्स एसोसिएशन के साथ कांधा मिलाकर खड़े होते हैं और वकील भाइयों के हितों की लड़ाई लड़ते हैं। उन्हों ने कहा कि वकील समुदाय की बात कहने वाले संगठन अवैधानिक कैसे हो सकते हैं। उस अवसर पर अन्य संगठनों के पदाधिकारियों ने एक स्वर में कहा कि बार व लायर्स तत्काल अपने नोटिस को वापस ले। बैठक में निर्णय  सभी संगठन पूर्व की तरह अपने कार्यों को अधिवक्ता हित में अंजाम देते रहेंगे। बैठक में कहा गया कि यदि नोटिस को  वापस न लिया गया तो न्यायिक कार्य प्रभावित होंगे और आम अधिवक्ताओं व वादकारियों को दिक्कतों का सामना करना पडेगा। इस अवसर पर यांग लायर्स एसोसिएशन के रत्न अग्रवाल ,सेन्ट्रल बार के प्रवीण फाइटर ,जनवादी अधिवक्ता मंच के रविन्द्र शर्मा ,नाथू लाल सचान अदि मंजूद थे।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*