Saturday , 25 September 2021
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
कानपुर. नाबालिग़ बच्चों की गुमशुदगी को थानेदार गंभीरता से लें ,आई जी जोन।

कानपुर. नाबालिग़ बच्चों की गुमशुदगी को थानेदार गंभीरता से लें ,आई जी जोन।

IMG_0118नाबालिग बच्चों की गुमशुदगी को गंभीरता से लेते हुए थाने दार तुरंत मुक़दमा क़ायम करें। ऐसा न करने वाले थानेदारों पर कार्रवाई हो गी ,ये बातें आईजी ज़ोन कानपुर आशुतोष पाण्डेय ने रागेंद्रे स्वरुप मेमोरियल आडिटोरियम में आयोजित एंटी  ह्यूमन ट्रैफिकिंग कार्यशाला में कहीं। आईजी ने कहा की थानेदारों को बच्चों के लापता होने की रिपोर्ट तुरंत धरा ३६३ में लिख कर आवश्यक करवाई करनी होगी। ये एक संवेदनशील मामला है और जिसका बच्चा गायब होता है उसकी मनोदशा को समझना पुलिस का दायित्व है।उन्हों ने कहा की आम तौर पर थानों में मासूमों के ग़ायब होने की रिपोर्ट लिखे जाने में आना कानी की जाती  है और कुछ मामलों में अनहोनी होने पर लापरवाही के चलते थाने में बैठे जिम्मेदारों को सज़ा भुगतनी पड़ती है। इस अहम मुद्दे पर आयोजित कार्यशाला में कानपुर के डी आई जी एसएसपी सहित कई आला अधिकारी और कर्मचारी सम्मिलित हुए।  कार्यशाला में एसएसपी कानपुर  शलभ  माथुर ने अपने सम्बोधन में कहा की जिस देश में हर आठ मिनट पर एक बच्चा ग़ायब होता हो वहां पुलिस को बहुत सतर्क रहने की ज़रुरत है। सवेरे स्कूल जाने से घर लौटने तक माँ  दरवाज़े पर ही नज़र गड़ाए रहती है। डीआईजी नीलाब्जा चौधरी ने कहा की भारत में मानव तस्करी बढ़ती जा रही है जिसे रोकने के लिए पुलिस के साथ आम जनता को भी जागरूक होना पड़े गा। डी  आई जी ने कहा की केंद्र के साथ राज्य सरकारें मानव तस्करी को रोकने के लिए गंभीर हैं ,आम तौर पर मानव तस्कर छोटे बच्चों को अगवा कर बंधवा मज़दूरी ,देहव्यापार और भीख मंगवा कर मोटी रक़म कमाते हैं। इस अवसर पर पुलिस कर्मियों को मानव तस्करी रोकने के उपाय भी बताये गए।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*