Saturday , 21 May 2022
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध

पचास रूपये के लेनदेन में हुई हत्या का फैसला। ९ दोषियों को आजीवन कारावास

कानपुर। १५ अप्रैल २०१५. महज़ ५० रूपये के लेनदेन के विवाद में चौदह  साल पहले बिधनू के सफई गांव में हुई  युवक की हत्या के आरोप में आज अदालत ने 9 लोगों को आजीवन कारावास की सजा सुना दी।साथ ही सभी दोषियों पर १५  १५ हज़ार का जुर्माना  भी लगाया। न्याय के लिए १४ साल से मुक़दमा लड़ रहे मृतक के घर वालों को उम्मीद थी की क़ातिलों को मौत की सजा मिले गी। मगर कानपूर कोर्ट में अपर जिला जज२ श्री  अनुपम कुमार ने दोषियों को आजीवन कारावास के साथ आर्थिक दंड की सजा सुनाई।

   आपको बता दें की  बिधनू के सफई गांव में  रहने वाले २७ वर्षीय युवक आज़ाद को गांव के ही  देसी दर्ज़ी नाम के व्यक्ति को ५० रूपये देने थे जिसका तक़ाज़ा देसीदर्ज़ी के बजाये  कुछ अन्य लोगों ने मृतक के पिता से किया मृतक के पिता बाबू सिंह ने कहा की पैसे देसी दर्ज़ी के बाक़ी है वह कहें गे तो पैसा दिया जाये गा। इसपर देसी दर्ज़ी के नाम पर उधारी मांग रहे लोगों का विवाद बाबू सिंह से होने लगा शोर सुन कर मृतक आज़ाद घर से बाहर आया तो तकरार मार पीट में बदल गई  और दबंग तक़ाज़गीरों   ने बाबू सिंह व उसके परिवार को जम  कर मार पीटा इस मारपीट के बाद आज़ाद ने हाथ पैर जोड़ कर माफ़ी भी मांग ली मगर दबंगों का गुस्सा ठंडा नहीं हुआ और रात को खेत की रखवाली करते समय टीयूबवेल पर एक दर्जन लोगों ने धारदार असलहों से आज़ाद की निर्मम हत्या कर दी।  हत्याकांड के बाद गाव में कोहराम मच गया।  घटना के बाद मरने वाले आज़ाद के पिता ने देसी दर्ज़ी सहित कुल ग्यारह लोगों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराइ थी जिस का मुक़दमा १४ साल तक चला और ९ लोगों को उपरोक्त सजा दी गई. दो आरोपियों की मुक़दमे के दौरान मौत हो चुकी थी। जज ने कल ही इस केस में अपना फैसला सुरक्षित कर लिया था जिस की सजा आज सुनाई गई।
१४ सालों तक चली क़ानूनी जंग में आखिरकार आज़ाद  दोषियों को आजीवन कारावास का दंड मिल ही गया।  फैसले को सुनने के लिए अदालत खच्चा खच भरी थी और  फैसला  दोषियों के परिवार के लोगों की हिचकियाँ बांध गईं।
report abu obaida 9838033331

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*