Monday , 17 January 2022
Breaking News
दिल्ली दुष्कर्म : चारों दोषियों को मृत्युदंड, फैसला सुन रो पड़े दरिंदे    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध    क्रिकेटर अंकित चव्हाण और श्रीशांत पर आजीवन प्रतिबंध
रेल बाज़ार पुलिस ने मुठभेड़ में  दो लुटेरों को दबोचा। तमंचा ,नकली पिस्टल और लूट का माल बरामद

रेल बाज़ार पुलिस ने मुठभेड़ में दो लुटेरों को दबोचा। तमंचा ,नकली पिस्टल और लूट का माल बरामद

IMG_9564abu obaida रेल बाजार पुलिस ने गुरुवार तड़के शिवनारायण टंडन सेतु के पास पैराशूट फैक्ट्री को जाने वाली सड़क पर बाइक पर सवार तीन लोगों को टोका तो बाइकसवारों ने पुलिस पर फायर झोंक दिया पुलिस के अनुसार साहस का परिचय देते हुए दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया जब की एक बदमाश मौके से भागने में कामयाब हो गया।गिरफ्त में आये बदमाश कमल उर्फ़ लखन  निवासी  शुक्ला गंज और मेराज निवासी अस्पताल घाट सिविल लाइंस कानपुर के क़ब्ज़े से एक ३१५ बोर का तमंचा कई ज़िंदा कारतूस और लेडीज़ पर्स जिसमे दस हज़ार रूपये थे बरामद हुआ।इस ऑपरेशन में सुरेश नाम का बदमाश फरार होने में कामयाब हो गया। बदमाशों के पास से एक नक़ली पिस्टल भी बरामद की है जिसे वे लूट की घटना में डराने के लिए इस्तेमाल करते थे।रेल बाज़ार एस  ओ के मुताबिक़ बदमाशों ने २० से अधिक लूट और चेन झपटमारी की की घटनाओ को क़ुबूल किया है। यह  जानकारी पुलिस लाइंस में एस एस  पी शलभ माथुर ने मीडिया  को दी।

उपरोक्त कहानी पुलिस ने बताई है जो एक पुराना तरीका है जिस में मुठभेड़ के दौरान पुलिस पार्टी पर फायर  होता है  पुलिस गोली न चला कर हिकमत अमली से अपराधी को गिरफ्तार करती है और एक अपराधी फरार ज़रूर होता है ,किसी भीड़ भाड़ वाले स्थान पर ये घटना हो तो माना जा सकता है की मुल्ज़िम फरार हो गया होगा मगर पुलिस की कहानी में एक बाइक पर सवार तीन बदमाशों में से दो को बाइक सहित पकड़ लिया गया और तीसरा भाग निकला जब की वहाँ से एक अकेले आदमी का पैदल भागना नामुमकिन है। पुलिस की जीप से पीछा कर के उसे पकड़ा जा सकता था या फिर बदमाशों से पकड़ी गयी बाइक से भी दौड़ा कर गिरफ्तार किया जा सकता था मगर ऐसा नहीं हुआ। ग़ौरतलब है वहाँ कोई गली नहीं और दूर दूर तक किसी को भी देखा जा सकता है। हैरत तो यह है की घटना स्थल के दोनों तरफ सैन्य अधिकारिओं के बंगले हैं और वहां चौबीस घंटे सेना के जवानो की तैनाती रहती है फिर भी गोली की आवाज़ पर कोई सैन्य कर्मी बाहर नहीं आया। इस लिए पुलिस पार्टी पर गोली चलाये जाने की बात हज़म नहीं हो रही। जो भी हो रेल बाज़ार पुलिस ने दोनों लुटेरों को लूट और जान से मारने की नियत से किये गए हमले के आरोप में जेल भेज दिया है।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*